पूछा किसी ने हाल किसी का तो वो रो दिए,
पानी में अक्श चाँद का देखा तो वो रो दिए।
नगमा किसी ने साज़ पर छेड़ा तो वो रो दिए,
घुंचा किसी ने शाख से तोडा तो वो रो दिए।
उड़ता हुआ गुबार सरेराह देख कर,
अंजाम हमने इश्क का सोचा तो वो रो दिए।
बादल फिजा में आप की तस्वीर बन गए,
साया कोई ख़याल से गुज़रा तो वो रो दिए।
रंग-ऐ-शफक से आग शागोफों में लग गई,


सागर हमारे आँखों से छलका तो वो रोदिये। ।

एक दुबली-पतली पर पैनी और तेज़ी भरी काया के 29 वर्षीय राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के कमांडो सुनील कुमार यादव का यह कहना है, “जब ताज होटल के कमरों में घुसकर हम वहाँ फंसे लोगों को विश्वास दिलाते थे कि अब वो सुरक्षित हैं तो उनकी आंखों में हमारी छवि किसी भगवान से कम नहीं नज़र आती थी। ये गर्व के क्षण थे, इन्हें कभी भुला नहीं सकते हम..."

सुनील कुमार यादव एनएसजी के कमांडो हैं. उन्हें ताज में चरमपंथियों से मुठभेड़ के दौरान तीन गोलियाँ लगी थीं. लेकिन मुंबई के बाम्बे अस्पताल में भर्ती सुनील की आंखों में दर्द की एक लकीर तक नहीं है. सुनील बताते हैं कि मिशन पर जाने से पहले फ़ोन, घर-परिवार, आगे-पीछे के सवाल, पहचान और बाकी तमाम बातें भूल जाते हैं। याद रहता है तो सिर्फ़ मिशन. सुनील बताते हैं कि हम आदेश मिलते ही रात को दिल्ली से रवाना हुए. मुंबई हवाई अड्डे से सीधे सचिवालय के पास पहुँचे और फिर टीम बना दी गईं.

इसके बाद 27 तारीख सुबह ताज में सबसे पहले अंदर जाने वाले कमांडो दस्ते में मैं था। हमने छठी मंज़िल से अपना काम शुरू किया. वहाँ से लोगों को निकालते और चरमपंथियों से मोर्चा लेते हुए हम नीचे की तरफ़ आ रहे थे. तीसरी मंज़िल तक पहुंचने में रात होने लगी थी. हम लोग रात के चश्मों के सहारे सब कुछ देख पा रहे थे. पूरी इमारत में घुंआ भरा हुआ था. एक-एक कमरे की तलाशी का काम चल रहा था. कमरों के अंदर फंसे लोग घबराए हुए थे कि बाहर कहीं चरमपंथी न हों. हम लोगों के लिए चुनौतीपूर्ण यह था कि कहीं चरमपंथी भी लोगों को बंधक बनाकर कमरे में मौजूद न हों. लोग पुलिस-पुलिस की आवाज़ पर भी कमरे नहीं खोल रहे थे. इस दौरान हमारा साथ दे रहे थे होटल के कुछ कर्मचारी. विदेशी भाषाओं में बात करके वे फंसे हुए लोगों को समझा रहे थे, ताले खोलने में हमारी मदद कर रहे थे.

"हम जैसे ही कमरों में जबरन दाख़िल होते थे, लोग डर के मारे सांसें रोककर खड़े हो जाते थे। जैसे ही उन्हें समझ आता था कि हम उन्हें बचाने आए हैं, वे रोने लगते थे, बदहवास हो जाते थे, हमसे गले मिलने लगते थे. मैंने इन लोगों की आंखों में अपने प्रति एक भगवान के आ जाने जैसा भाव देखा है. यही बात हमें ताकत दे रही थी. इस ऑपरेशन की यह सबसे पहली याद रहेगी मेरे ज़हन में. चरमपंथियों से मोर्चा लेते हुए जब मैं ताज की तीसरी मंज़िल पर पहुँचा तो वहाँ किसी तरह से एक कमरे में खुद को छिपाकर बैठी एक अधेड़ उम्र की विदेशी महिला को बाहर निकाला. इस महिला को कवर करता हुआ मैं अगले कमरे की ओर बढ़ा. दरवाज़ा खोलते ही गोलियों की तड़तड़ाहट हुई. कमरे में एक चरमपंथी घात लगाए बैठा था. होटल कर्मचारी घायल हो गया. मैंने जवाबी गोलीबारी की पर अब मेरे लिए पहले इन दोनों लोगों की जान बचाना ज़्यादा बड़ी प्राथमिकता थी. अब तक दरवाज़ा बंद हो गया था पर गोलियाँ दरवाज़े के पार आ रही थीं. मैंने दोनों लोगों को खींचकर गोलियों के दायरे से बाहर किया. अब तक तीन गोलियाँ मेरे पीछे धंस चुकी थीं."

इसे कहते हैं...रीयल जिंदगी का हीरो. ये हैं सचमुच में देश के स्टार। परन्तु दुर्भाग्य से इन सितारों को सरकार और जनता वह सम्मान और स्थान भी नही देती जो फिल्मी और क्रिकेट के सितारों को अनायास ही मिलता है।

साभार- बी.बी.सी.


टूटा जो आ के लब पे, तेरा नाम ही तो है,
दिल में बस एक ख्वाहिश-ऐ-नाकाम ही तो है।


पहला क़दम ही आखिरी है, उठ सके अगर,
मंजिल यकीन-ऐ-इश्क की एक गाम ही तो है।


रहने दो वापसी के लिए रास्ता खुला,
वो बद नही है, एक ज़रा बदनाम ही तो है।


साबित करेगा क्या कोई हम पर जफा का जुर्म,
एक रोज़ ढल ही जायेगा, इल्जाम ही तो है।



उन्होंने देखा और आँसू गिर पड़े,


भारी बरसात में जैसे फूल बिखर पड़े।


उन्हों ने कह दिया अलविदा...


और कहकर ख़ुद ही रो पड़े।



साथ रहते-रहते यूँ ही वक्त गुज़र जायेगा,


बाद कौन किसे याद आएगा।


जी लो ये पल जब साथ है,


कल क्या पता वक्त किसे कहाँ ले जायेगा।



हम याद रहें तो ठीक, वरना भुला देना।


हुई हो कोई खता हमसे, तो सजा देना।


वैसे तो हम हैं खाली कागज़ की तरह,


लिखा जाए तो ठीक, वरना ज़ला देना।





अपनी आंखों की अश्कों से,


तुम्हारी आंखों में बहार लिखूँ।


कि अपने ग़मों की स्याही से,


तुम्हारे होठों पे मुस्कान लिखूँ।


क्या लिखूँ ऐ दोस्त तू ही बता,


अपने मोहब्बत-ऐ-ज़ज़बात से,


तेरी ज़िन्दगी में प्यार लिखूँ।



मन में सबके अरमान नही होता,


हर कोई दिल का मेहमान नही होता।


पर जो दिल में एक बार समा जाए,


उसे भूल जाना आसान नही होता।



छुप-छुप के तनहा रो लेंगे,


अब दिल का दर्द किसी न बोलेंगे।


नींद आती नही है रातों को अब,


जब आएगी मौत तो जी भर के सो लेंगे।




हमेशा मुस्कुरा के आंसूओं को छुपाया,
गम को छुपाने का यही रास्ता नज़र आया।

किस- किस को बताते बहते अश्कों का सबब,
कि दर्द-ऐ-दिल दिल में किस ने जगाया।

महफिलों में कहीं भी मज़ा न रहा,
रखा दिल पे पत्थर तो ख़ुद को सजाया।

बात बे बात अपनी आहें दबा कर,
यारों के दरमियाँ किस कदर मुस्कुराया।

न थी चाह कभी मुझे मंकाशी की,
जाम-ऐ-वफ़ा किसी भी वफ़ा ने पिलाया।

क्या मुक़दर से शिकवा करते रहें,
जो किस्मत में था वोही कुछ तो पाया।

यह किस मोड़ पे आ गई हैं उमीदें,
के साया-ऐ-मंजिल नज़र में न आया।

अपनों ने पलट के देखा तक नहीं,
गैरों ने आकर गले से लगाया।

अच्छा हुआ कि राज़ खुल ही गया,
दिल-ऐ-नादान पे खंजर किस ने चलाया।

शब्-ओ-रोज़ चाहत का सिला ये है शाकी,
दिल के टुकड़े हुए, और वो चुनने न आया।



अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफर पे हम हैं,
रुख हवाओं का जिधर, उधर के हम हैं,
पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दुसरे घर के हम हैं।


वक्त के साथ है मिटटी का सफर सदियों तक,
किसको मालूम कहाँ के हम किधर के हैं,
चलते रहते हैं की चलना है मुसाफिर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहेगुज़र के हम हैं.


भीगी हुई आँखों का ऐ मंज़र न मिलेगा
घर छोड़ के मत जाओ कहीं घर न मिलेगा

फिर याद बहुत आएगी जुल्फों कि घनी शाम
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा

आँसू को कभी ओस का कतरा न समझाना
ऐसा तुम्हें चाहत का समंदर न मिलेगा

इस ख्वाब के माहौल में बे-ख्वाब हैं आँखें
बाज़ार में ऐसा कोई जेवर न मिलेगा


ये सोच लो अब आखिरी साया हैं मोहब्बत
इस दर से उठोगे तो कोई दर न मिलेगा।


यौन शोषण- ऐसा विषय जिसके बारे में लोग अक्सर चर्चा करने से कतराते हैं और कुछ के लिए यह एक भयानक मुद्दा है। यौन शोषण के शिकार ऐसे लोग जिनकी धार्मिक आस्था काफी गहरी होती है वे शोषण करने वाले के खिलाफ आवाज नहीं उठा पाते हैं। कई महिलाओं का मानना है कि यौन हिंसा का प्रतिरोध वे इसी कारण नहीं कर पाईं क्योंकि उनका धर्म ऐसा करने से मना करता है।


इस साल केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में पता चला है कि देश भर के 30 राज्यों के 5-18 आयु वर्ग के लगभग 50 फीसदी बच्चों का स्कूल में यौन शोषण होता है। 53 प्रतिशत ने माना कि स्कूल या अन्य जगहों पर उनके साथ यौन शोषण हुआ है। महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय द्वारा देश भर में 12,447 बच्चों पर कराए गए एक सर्वेक्षण में 53.22 फीसदी बच्चों ने एक से ज्यादा बार यौन शोषण के शिकार होने की बात कबूली। (Source: Josh18)


आम धारणा के विपरीत भारत में उच्च और मध्यम आय वर्ग के परिवारों में बच्चों का यौन शोषण निम्न वर्ग के मुकाबले कहीं अधिक है। बच्चों के यौन शोषण के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाने वाली एक स्वंयसेवी संस्था की संयोजक ने बताया कि उच्च और मध्यम आय वर्ग के परिवारों में बच्चों का यौन शोषण कहीं ज्यादा है, लेकिन लिंग भेद और सामाजिक दबाव के चलते यह मामले सामने नहीं आते।


कई लोग सोचते हैं कि शारीरिक या मानसिक शोषण आपके आसपास नहीं हो सकता। लेकिन शायद इसका शिकार आपके बगल में रहने वाली बच्ची या आपका रिश्तेदार या कोई भी हो सकता है। अब, सवाल यह उठता है कि क्या इससे बचने का कोई पुख्ता रास्ता नहीं है. इस तरह की स्थिति से कैसे लड़ा जाए।

सलाहकारों के अनुसार आपको खुद में विश्वास रहना चाहिए। आपको खुद को समझाना होगा कि इसमें आपकी कोई गलती नहीं है। चीजों को बांटने से परिस्थितियां आसान बनती हैं।” यौनशोषक घर में ही मौजूद कोई व्यक्ति या परिचित भी हो सकता है। ऐसे मामलों में माता-पिता की प्रतिक्रिया बहुत महत्वपूर्ण होती है। उन्हें अपने बच्चों पर पूरी तरह विश्वास करना चाहिए और इसके बाद शोषणकर्ता से सामना करना चाहिए ताकि इस तरह की हरकतों पर तुरंत रोक लगाई जा सके।



क्यूँ बात हमारी नही मानते
क्यूँ दिल हमारा दुखाते हो
ये कोमल कोमल जज्बे मेरे
क्यूँ इन को सुलाते हो।

आँखों में रहती है नमी मेरे
क्यूँ इनसे आंखें चुराते हो
क्या रखा है बातों में मेरी
क्यूँ इन पे दिल लुटाते हो।

मान जाओ न बात हमारी
क्यूँ हम पे सितम ढाते हो
जो बात दिल में है तुम्हारे
वही दिल में है हमारे।

क्यूँ इन जज्बों को रुलाते हो
ये कोमल कोमल जज्बे मेरे
आख़िर क्यूँ इन को सुलाते हो।
----------------------------------


खुदा किसी को किसी पे फ़िदा न करे,
करे तो क़यामत तक जुदा न करे,
माना कि कोई मरता नही जुदाई में,
लेकिन जिंदा भी कहाँ रह जाता है।



आज एक प्रतिष्ठित साईट पर प्रकाशित ख़बर के माध्यम से मैंने जाना कि मुम्बई में हुए आतंकवादियों के हमले में घायल हुए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के एक अफसर को क्यों इस बात का अफसोस है कि वे गोली खाकर मर क्यों नहीं गए। एनएसजी का यह जांबाज अधिकारी २७ नवम्बर को ओबेरॉय होटल में आतंकवादियों से लोहा लेने के लिए घुसा था। उसे भनक लगी थी कि 18वीं मंजिल पर एक कमरे में आतंकवादी है। एनएसजी के इस कमांडो ने दरवाजे को विस्फोट से उड़ा दिया, लेकिन जैसे ही कैप्टन एके. सिंह कमरे के भीतर घुसकर कार्रवाई करने वाले थे, आतंकवादियों ने हथगोला फेंक दिया। कैप्टन एके. सिंह के निटकवर्ती सूत्रों ने बताया कि कैप्टन उस धमाके की चपेट में आ गए और पूरे शरीर पर छर्रे लगने के कारण वे बेहोश हो गए। अधिकारी को बॉम्बे अस्पताल लाया गया जहां उनके शरीर में धंसे सभी छर्रों को निकाल दिया गया लेकिन एक छर्रा नहीं निकल पाया जो कैप्टन की बाईं आंख में चला गया था।


गौरतलब है कि मुम्बई हमले से निपटने के लिए लगाए गए एनएसजी के कमांडो में से एक अधिकारी मेजर संदीप उन्नीकृष्णन शहीद हो गए, जबकि घायल कैप्टन सिंह की अब कोई सुध लेने वाला नहीं है। मुम्बई में एनएसजी का ऑपरेशन समाप्त होने के बाद एनएसजी की टीम हर्षोल्लास से दिल्ली लौट गई और कैप्टन सिंह अस्पताल में हैं। उनकी आंख से अब भी खून बहता है। आंख इस कदर क्षतिग्रस्त हो चुकी है कि अब कोई दानादाता पुतली भी दे दे, तब भी ठीक नहीं हो सकती। कैप्टन सिंह के एक मित्र ने बताया कि यह अधिकारी बेहतर इलाज चाहता है और वह सेना में वापस जाकर सेवाएं देने का इच्छुक है। उसे तसल्ली देने के लिए एनएसजी का भी कोई अधिकारी मौजूद नहीं है।


सेना की जिस बटालियन से यह अधिकारी एनएसजी में आया था, उसके कमांडिंग ऑफिसर ने अभी तक उनसे मुलाकात तक करना जरूरी नहीं समझा। एक अधिकारी के अनुसार जब इस मामले को सेना के शीर्ष अधिकारी के संज्ञान में लाया गया तो उन्होंने कुछ मदद करने के बजाए यह हिदायतें जारी कर दीं कि सिंह मीडिया को इंटरव्यू न दें और न ही कोई बयान जारी करें।एसके. सिंह के माता-पिता को सूझ नहीं रहा है कि वे करें तो क्या करें।

एक तो पहले से ही भारतीय सेना में अब सक्षम, तेज़-तर्रार अफसरों की कमी होती जा रही है, ऊपर से अगर सरकार और सेना के उच्च अधिकारी अपने ही घायल जवानो की सुधि नही लेंगे तो फ़िर कौन देश के नाम पर अपनी जान जोखिम में डालना चाहेगा। अगर देश के अधिष्ठाताओं का यही हाल रहा तो वह दिन दूर नही जब देश के नौजवान सेना की बजाय दूसरे क्षेत्रों में जाना पसंद करेंगे। बेहतर होता कि केन्द्र सरकार और राज्य सरकारें मिलकर ऐसे असहाय जवानों की स्वास्थ्य व सुरक्षा के लिए तत्परता दिखाएँ और कोई ऐसे कार्य दल का निर्माण करें जो इनके स्वस्थ्य सुरक्षा सम्बन्धी सामानों को त्वरित ढंग से मुहैया कराये साथ ही साथ उनके परिवारों की ज़रूरतों का भी ख़याल करे। ताकि देश के किसी सुरक्षा कर्मी के मन में यह भावना न पनपने पाये कि जिस देश को वह अपना कहता रहा है...जिसके लिए उसने अपनी जान दाव पर लगाया, उस देश कि सरकार और जनता को उसकी कोई फिक्र नही है।


तब तक प्यार से प्यार मत करो,
जब तक प्यार आपसे प्यार न करे।
अगर प्यार आपसे प्यार करे तो,
प्यार को इतना प्यार करो,
कि प्यार किसी और से प्यार न करे।

अगर हम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता?
आपके चहरे को कमल कौन कहता?
ये तो करिश्मा है मोहब्बत का,
वरना पत्थर की दीवार को ताजमहल कौन कहता?

आँसू में ना ढूँढना हमें,
हम तुम्हे आँखों में मिल जायेंगे,
तमन्ना हो अगर मिलने की तो,
बंद आँखों से भी नज़र आएँगे.

जिस दिल ने न आई चोट कभी वो दर्द किसी का क्या जाने,
खुद शमा को मालूम नहीं, क्यूं जल जाते हैं परवाने।
मत पूछो क्या गुज़रती है जुदा जब यार होते हैं,
आँसू तीर बन के जिगर के पार होते हैं।

तेरी यादों के सिवा कोई लम्हा गुज़ारा नहीं,
एक पल नहीं जब तुम्हें मेरे दिल ने पुकारा नहीं।
तेरे बिन यूँ कट रही दरिया-ऐ-जिंदगी में,
कश्ती भी है, माझी भी है, पर किनारा नहीं।

इंसानों के कन्धों पे इंसान जा रहा हैं,
कफ़न में लिपटे कुछ अरमान जा रहा है।
जिन्हें नही मिली मोहब्बत इस दुनिया में,
मोहब्बत पाने वो कब्रिस्तान जा रहा है।

क्यों रात-दिन रोते हो उसके लिए,
जो न था तुम्हारा एक पल के लिए।
अश्कों से कहो, अब थम भी जाएँ,

मैं हूँ तुम्हारा, तुम्हे जीना है मेरे लिए।



मन दुखी है तो क्या बैठ कर रोऊँ,


दुःख का जाप करू ?


एक नुक्सान वो कर गए दूजा मै अपने आप करू ?


नही, अभी बहुत काम है मुझे !


हादसा हो गया है मेरे शहर में मेरे अपनों के साथ,


मै लुट गई हूँ एक ख़बर बनाऊं, और विरलाप करुँ?


मानस होकर वहशी सा पाप करू ?


नही अभी बहुत काम है मुझे !


घरोंदे जो टूट गए है फिर से बनाने होंगे,


दिल जो खौफज़दा हैं जिंदगी से फिर से मनाने होंगे,


तुम्हे फुर्सत है, किसी पर इल्जाम धर सको,


रैली में अपना नाम करो,


मुझे बख्सो ! अभी बहुत काम है मुझे।



...With Spl.Thanks to Anu



जिनको पकड़ा हाँथ समझकर,


वो केवल दस्ताने निकले।


आहों का अंदाज़ नया था,


लेकिन ज़ख्म पुराने निकले।



यही दुनिया-ऐ-उल्फत में हुआ करता है, होने दो।


तुम्हे हसना मुबारक हो, कोई रोता है रोने दो।


कसम ले लो जो शिकवा हो तुम्हारी बेवफाई का,


किए को अपने रोता हूँ, मुझे जी भर के रोने दो।



बहुत हसीं सही सोहबतें गुलों की मगर,


ज़िन्दगी वो है जो काँटों के दरमियाँ गुजरे।





विश्व एडस दिवस
आज (1st Dec.) पूरी दुनिया में विश्व एडस दिवस मनाया जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र ने इस मौके पर देशों से अपील की है कि वे बचाव और इलाज के लिए किये गए वादों को पूरा करे. इस समय तीन करोड़ तीस लाख लोग एचआईवी पॉसिटिव हैं जिससे एड्स की बीमारी होती है.

Acquired Immune Deficiency Syndrome (AIDS) यानि उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण Human Immunodeficiency Virus (HIV) यानि मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमण के बाद की स्थिति है, जिसमें मानव अपने प्राकृतिक प्रतिरक्षण क्षमता खो देता है। उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण स्वयं कोई बीमारी नही है पर उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण से पीड़ित मानव शरीर संक्रामक बीमारियों, जो कि जीवाणु और विषाणु आदि से होती हैं, के प्रति अपनी प्राकृतिक प्रतिरोधी शक्ति खो बैठता है क्योंकि HIV विषाणु रक्त में उपस्थित प्रतिरोधी पदार्थ लसीका-कोशो पर आक्र्म्ण करता है। AIDS पीड़ित के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता के क्रमशः क्षय होने से कोई भी अवसरवादी संक्रमण, यानि आम सर्दी जुकाम से ले कर क्षय रोग जैसे रोग तक सहजता से हो जाते हैं और उनका इलाज करना कठिन हो जाता हैं। मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमण को उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण की स्थिति तक पहुंचने में ८ से १० वर्ष या इससे भी अधिक समय लग सकता है। मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु से ग्रस्त व्यक्ति अनेक वर्षों तक संलक्षणों के बिना रह सकते हैं।
उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण वर्तमान युग की सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है यान के ये एक महामार है। उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के संक्रमण के तीन मुख्य कारण हैं - यौन द्वारा, रक्त द्वारा तथा माँ-शिशु संक्रमण द्वारा। राष्ट्रीय उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण नियंत्रण कार्यक्रम और संयुक्त राष्ट्रसंघ उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण दोनों ही यह मानते हैं कि भारत में ८० से ८५ प्रतिशत संक्रमण असुरक्षित विषमलिंगी/विषमलैंगिक यौन संबंधों से फैल रहा है। माना जाता है कि सबसे पहले इस रोग का विषाणु: मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु, अफ्रीका के खास प्राजाति की बंदर में पाया गया और वहीं से ये पूरी दुनिया में फैला। अभी तक इसे लाइलाज माना जाता है लेकिन दुनिया भर में इसका इलाज पर शोधकार्य चल रहे हैं। १९८१ में उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण की खोज से अब तक इससे लगभग २ १/२ करोड़ लोग जान गंवा बैठे हैं।

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण इन में से किसी भी कारण से फैल सकता है:
गुदा,योनिक या मौखिक मैथुन [वीर्य, योनिक द्रव्य या प्रतिवीर्यक द्रव्य द्वारा]
रक्त संक्रामण
स्तनपान कराना [माता से शीशु मे]
संदूषित अधस्तवक पिचकारीया

दुनिया भर में इस समय लगभग चार करोड़ 20 लाख लोग मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु का शिकार हैं। इनमें से दो तिहाई सहारा से लगे अफ़्रीकी देशों में रहते हैं और उस क्षेत्र में भी जिन देशों में इसका संक्रमण सबसे ज़्यादा है। वहाँ हर तीन में से एक वयस्क इसका शिकार है। दुनिया भर में लगभग 14,000 लोगों के प्रतिदिन इसका शिकार होने के साथ ही यह डर बन गया है कि ये बहुत जल्दी ही एशिया को भी पूरी तरह चपेट में ले लेगा।

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण से कैसे बचें -

जब तक कारगर इलाज खोजा नहीं जाता, उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण से बचना ही उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण का सर्वोत्तम उपचार है।
अपने जीवनसाथी के प्रति वफादार रहें। एक से अधिक व्यक्ति से यौनसंबंध ना रखें।
यौन संबंध(मैथुन) के समय शिश्वावेष्टन गर्भ निरोधक् का सदैव प्रयोग करें।
यदि आप मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमित या उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण ग्रसित हैं तो अपने जीवनसाथी से इस बात का खुलासा अवश्य करें। बात छुपाये रखनें तथा इसी स्थिती में यौन संबंध जारी रखनें से आपका साथी भी संक्रमित हो सकता है और आपकी संतान पर भी इसका प्रभाव पड़ सकता है।
यदि आप मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमित या उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण ग्रसित हैं तो रक्तदान कभी ना करें।
रक्त ग्रहण करने से पेहले रक्त का मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु परीक्षण कराने पर ज़ोर दें।
यदि आप को मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमण होने का संदेह हो तो तुरंत अपना मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु परीक्षण करा लें। उल्लेखनीय है कि अक्सर मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु के कीटाणु, संक्रमण होने के 3 से 6 महीनों बाद भी, मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु परीक्षण द्वारा पता नहीं लगाये जा पाते। अतः तीसरे और छठे महीने के बाद मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु परीक्षण अवश्य दोहरायें।

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण इन कारणों से नहीं फैलता -
मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमित या उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण ग्रसित व्यक्ति से हाथ मिलाने से
मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमित या उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण ग्रसित व्यक्ति के साथ रहने से या उनके साथ खाना खाने से।
एक ही बर्तन या रसोई में स्वस्थ और मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु संक्रमित या एड्स ग्रसित व्यक्ति के खाना बनाने से।

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के लक्षण –

अक्सर मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु से संक्रमित लोगों में लम्बे समय तक उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के कोई लक्षण नहीं दिखते। दीर्घ समय तक ( 3, 6 महीने या अधिक ) तक मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु भी औषधिक परीक्षा में नहीं उभरते। अधिकांशतः उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के मरीज़ों को ज़ुकाम या विषाणु बुखार हो जाता है पर इससे उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण होने की पहचान नहीं होती। उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के कुछ प्रारम्भिक लक्षण हैं:
बुखार
सिरदर्द
थकान
हैजा
मतली व भोजन से अरुचि
लसीकाओं में सूजन
ध्यान रहे कि ये समस्त लक्षण साधारण बुखार या अन्य सामान्य रोगों के भी हो सकते हैं। अतः उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण की निश्चित रूप से पहचान केवल, और केवल, औषधीय परीक्षण से ही की जा सकती है व की जानी चाहिये।

प्रगत अवस्था में उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के लक्षण –
तेज़ी से अत्याधिक वजन घटना
सूखी खांसी
लगातार ज्वर या रात के समय अत्यधिक/असाधारण मात्रा में पसीने छूटना
जंघाना, कक्षे और गर्दन में लम्बे समय तक सूजी हुई लसिकायें
एक हफ्ते से अधिक समय तक दस्त होना। लम्बे समय तक गंभीर हैजा।
फुफ्फुस प्रदाह
चमड़ी के नीचे, मुँह, पलकों के नीचे या नाक में लाल, भूरे, गुलाबी या बैंगनी रंग के धब्बे।
निरंतर भुलक्कड़पन, लम्बे समय तक उदासी और अन्य मानसिक रोगों के लक्षण।

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण रोग का इलाज –

औषधी विज्ञान में उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के इलाज पर निरंतर संशोधन जारी हैं। भारत, जापान, अमरीका, युरोपीय देश और अन्य देशों में इस के इलाज व इससे बचने के टीकों की खोज जारी है। हालांकी उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के मरीज़ों को इससे लड़ने और उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण होने के बावजूद कुछ समय तक साधारण जीवन जीने में सक्षम हैं परंतु अंत में मौत निश्चित हैं। उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण लाइलाज हैं। इसी कारण आज यह भारत में एक महामारी का रूप हासिल कर चुका है। भारत में उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण रोग की चिकित्सा महंगी है, उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण की दवाईयों की कीमत आम आदमी की आर्थिक पहुँच के परे है। कुछ विरल मरीजों में सही चिकित्सा से 10-12 वर्ष तक उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण के साथ जीना संभव पाया गया है, किंतु यह आम बात नही है।

सामाजिक बदलाव - एक महत्वपूर्ण पक्ष :

उपार्जित प्रतिरक्षी अपूर्णता सहलक्षण का एक बड़ा दुष्प्रभाव है कि समाज को भी संदेह और भय का रोग लग जाता है। यौन विषयों पर बात करना हमारे समाज में वर्जना का विषय रहा है। निःसंदेह शतुरमुर्ग की नाई इस संवेदनशील मसले पर रेत में सर गाड़े रख अनजान बने रहना कोई हल नहीं है। इस भयावह स्थिति से निपटने का एक महत्वपूर्ण पक्ष सामाजिक बदलाव लाना भी है।

… रवि श्रीवास्तव

from- मेरी पत्रिका
www.meripatrika.co.cc

जो रहते हैं सदा दिल में, उन्हें ढूँढा नही करते,
जो रच जाएँ राग-ओ-पय में, उन्हें सोचा नही करते।

बहारों के घने साए में तल्खी भी है, चुभन भी है,
ग़मों की धुप का तुमसे मगर शिकवा नही करते।

नही आते कभी भी लौट कर गुज़रे हुए मौसम,
बरसते बादलों की आस में तरसा नही करते।

ताजसुस और बढ़ता है मचल जाते हैं सुन कर हम,
अचानक प्यार की बातों का रुख मोड़ा नही करते।

तेरी नज़र-ऐ-इनायत से हुए जाते हैं जो घायल,
उन्हें कातिल निगाहों से देखा नही करते।

बिछड़ के मुझ से तुम भी जी न पाओगे,
सच कहता हूँ मेरे बिन बहुत पछताओगे।
बर्दाश्त का पैमाना है मेरा भी बहोत वैसे,
बोलो कितना रुलाओगे, बोलो कितना सताओगे।


यादें मेरी सताएंगी, बातें मेरी रुलायेंगी,
मेरी निगाहों से तुम ख़ुद को कहाँ तक छुपाओगे।
साया भी हुआ करता है क्या कभी इंसान से जुदा,
तुम जहाँ भी जाओगे, साथ मुझको पाओगे।


कर देगा मेरा खलूस ये हालत तुम्हारी,
राज़-ऐ-दिल जुबां तक लाओगे, पर कह न पाओगे।
करता हूँ इंतज़ार उस लम्हें का मैं,
जब मुझे अपना कह कर पास बुलाओगे।

पहले बंगलौर, अहमदाबाद, सूरत, दिल्ली और अब फिर मुंबई । और आगे हो सकता है की उनका अगला निशाना वाराणसी या कोई और शहर हो। ऐसी खबरें अब धीरे-धीरे आम बात होती जा रही हैं। जिस तरह एक के बाद एक आतंकवादी देश की किसी भी कोने में बम बिस्फोट कर रहे हैं। ऐसा लगता है की वर्तमान सरकार में आतंकवाद से लड़ने की शत प्रतिशत इच्छा शक्ति का आभाव है। सुरक्षा एजेंसियां भी वक्त रहते उन्हें रोकने में सफल नही हो पा रही हैं। भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई पर बुधवार रात अब तक का सबसे बड़ा चरमपंथी हमला हुआ है. पूरी मुंबई के कई इलाक़ों में छोटे-छोटे ग्रुपों में चरमपंथियों ने गोलियाँ और बम बरसाने शुरू कर दिए. छत्रपति शिवाजी स्टेशन, ताज होटल, ओबरॉय होटेल, मेट्रो सिनेमा, डॉक, विले पार्ले समेत कई इलाक़ों में एक ही समय पर हुई सिलसिलेवार गोलीबारी हुई और कई जगह धमाके हुए. इससे पूरी मुंबई में अफ़रातफ़री का माहौल है. इस हमले में अभी तक १०१ लोग मारे गए हैं और लगभग २८७ लोग घायल हुए हैं। विभिन्न समाचार माध्यमों को भेजे ईमेल में डेकन मुजाहिदीन नामक संगठन ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

बुधवार की रात जब हमलों की शुरुआत हुई तो मुंबई में अफ़रातफ़री मच गई और कई घंटों तक कोई भी यह बताने की स्थिति में नहीं था कि आख़िर मामला क्या है। टेलीविज़न पर दिखाई गई तस्वीरों में पुलिस अधिकारियों को सड़क पर हाथ में रिवॉल्वर और बंदूक लिए गाड़ियों की तलाशी लेते हुए दिखाई पड़े. मुंबई पुलिस ने इसे 'सुनियोजित आतंकवादी हमला' बताया है.

आज कल भारत में 'आतंकवादी' घटनाएँ क्यों हो रही हैं? क्या इन घटनाओं को आतंकवाद कहना भी चाहिए या ये महज़ क़ानून और व्यवस्था की घटनाएँ जिन्हें कुछ निजी स्वार्थों की वजह से 'आतंकवाद' का नाम दे दिया जाता है। भारत में पिछले कुछ समय पर नज़र डालें तो अनेक ऐसी घटनाएँ हुई हैं जो भारत की क़ानून और व्यवस्था के साथ-साथ राजनीतिक नेतृत्व और सरकार के लिए भी चुनौती हैं लेकिन क्या इस चुनौती का सामना करने के लिए समुचित रणनीति पर ग़ौर किया जा रहा है या फिर इन हालात को राजनीतिक स्वार्थों के लिए भुनाने की कोशिश की जा रही है?

इतना ही नहीं, एक तबका इन्हें हिंदू और मुसलमानों से भी जोड़कर देखने लगा है. मगर इसमें धर्म को खींचना ग़लत है. जो लोग क़ानून के ख़िलाफ़ जो भी कार्रवाई करते हैं वे सब क़ानून की नज़र में अपराधी हैं और उनके साथ उसी के अनुसार बर्ताव होना चाहिए. इसमें हिंदू या मुसलमान होने की कोई बात ही नहीं है. क़ानून की नज़र में अगर किसी ने कोई जुर्म किया है तो उसी के अनुसार उनका दर्जा तय होना चाहिए.
आतंकवाद का इस्तेमाल किसी राजनीतिक उद्देश्य के लिए किया जाता था लेकिन अब इसकी परिभाषा कुछ बदल गई है, आतंकवाद का मतलब होता था किसी राजनीतिक लक्ष्य को हासिल करने के लिए की गई विध्वंसक कार्रवाई लेकिन अब इसका मतलब कुछ बदल सा गया है. भारत में जो बम विस्फोट की घटनाएँ हो रही हैं उनका राजनीतिक लक्ष्य सरकार को अस्थिर करना हो सकता है. इन घटनाओं को तथाकथित इस्लामी आतंकवाद या हिंदू आतंकवाद से नहीं जोड़ा जा सकता। ऐसे माहौल में किसी घटना की सच्चाई क्या है, उसे जानने का इंतज़ार करने के बिना बहुत से लोग आनन-फानन में कोई राय बना लेते हैं जिसे देश और समाज का शायद इतना बड़ा नुक़सान हो जाता है जिसकी भरपाई करना अगर असंभव नहीं तो बेहद मुश्किल ज़रूर होता है. क्या मीडिया को ऐसे माहौल में संयम बरतने की ज़रूरत है.

मुसलमान भारत का सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है और उनके एक तबके में ये भावनाएँ पनप रही हैं कि इस समुदाय को दबाने की कोशिश की जा रही है और ऐसा जब भी होता है वो राजसत्ता की मदद से होता है। चिंता की बात ये है कि राजनीतिक नेतृत्व की उदासनीता की वजह से एक धर्मनिर्पेक्ष देश में समाज सांप्रदायिक रास्तों पर बँटता नज़र आने लगता है. इसके लिए राजनीतिक स्वार्थ ज़्यादा ज़िम्मेदार हैं यह एक ख़तरनाक प्रवृत्ति है जिसे रोकना होगा. मेरी समझ में राजनीतिक नेतृत्व ही सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदार है. जब भी कोई घटना होती है तो उन सबका ध्यान सिर्फ़ वोट की राजनीति पर होता है. अगर वोट की राजनीति ना हो तो, बहुत सारी घटनाएँ हो ही नहीं. मुझे सबसे बड़ा अफ़सोस यही है कि जिनके हाथ में क़ानून को लागू करने की ज़िम्मेदारी है, वो ऐसी कोई घटना होने क्यों देते हैं और अगर कोई घटना हो जाती है तो जो गुनहगार हैं उन्हें पकड़कर सख़्ती से सज़ा क्यों नहीं दिलवाते हैं.

गूगल पर टाइप कीजिए ‘बम कैसे बनाना है’ और आपको वेबसाइट की सूची मिल जाएगी जिसपर आपको बम बनानी की सामग्री, माप, दिशानिर्देश, यानी कुल मिलाकर किसी को मारने के लिए सारे तरीके बारीकी से मिल जाएंगे। लेकिन, सवाल यह खड़ा होता है कि लगातार हो रही आतंकवादी घटनाओं के बावजूद ऐसी जानकारियां क्यों आसानी से उपलब्ध है? ऐसे खतरनाक विषय पर जिन सर्वर के जरिए भारत में सारी इंटरनेट सामग्रियां पहुंचाई जाती हैं, उन इंटरनेट सेवा प्रदाताओं का कहना है कि उन्हें इस चीज को हटाने के लिए दिशानिर्देश की जरूरत है। इंटरनेट सुरक्षा विशेषज्ञ राजेश छारिया का कहना है कि, “हम ऐसी वेबसाइट को पांच मिनट में बंद कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए हमें सरकारी आदेश की जरूरत है”। तो फ़िर सरकार ऐसे आदेश जारी करने में देर क्यो कर रही है? अब यह यह महसूस किया जा रहा हैं कि आतंकवादी घटनाएं केवल राज्यों का ही मामला नहीं है तथा केन्द्र को इस खतरे से निपटने के लिए राज्य सरकारों से पूरा सहयोग करना चाहिए।

अगर हम इस बहस को सीमित करते हुए यह कहें कि दरअसल यह कोई 'आतंकवाद' नहीं बल्कि क़ानून और व्यवस्था का एक मामला है तो शायद कुछ ग़लत नहीं होगा क्योंकि अनेक जानकारों का मानना है कि हर समस्या की कोई ना कोई जड़ होती है और उसमें हिंदू- मुसलमान या ईसाई रंग ढूंढना ग़लत है। ऐसे में क्या राजनीतिक नेतृत्व की ज़िम्मेदारी इस ख़तरनाक मानसिकता को बढ़ने से रोकने की नहीं है। क्या सरकार की ज़िम्मेदारी नहीं बनती कि समस्या की जड़ को समझने की कोशिश करे और उसी के अनुसार कोई ऐसा रास्ता निकाला जाए जिससे समाज को बँटने से रोका जा सके. भारत के शीर्ष नेता इसे कब तक हल कर पायेंगे? ...इसी तरह के अनगिनत सवाल मेरे मन में आज उठ रहे हैं। और शायद ...........भारत की आम जनता के मन में भी उठते होंगे। ऐसे में एक आम आदमी क्या करे। उसका क्या कसूर है। हर जगह वो ही निशाना क्यो बनता है?आतंकवाद और आतंकवादियों का सिवाय आतंक और दहशत फैलाने के अलावा और कोई धर्म नही होता। उन्हें किसी के विकास और समृद्धि से कोई लेना-देना नही है। आख़िर यह बात लोगों के समझ में कब आएगी?

आज-कल तेज़ी से बढ़ रही आतंकवादी गतिविधियों के देखकर ऐसा लगता है जैसे पूरे देश पर हमला हो रहा है। शायद अब वह समय आ गया है की जब केन्द्र सरकार को देश की आतंरिक सुरक्षा को लेकर कुछ ठोस कदम उठाने चाहिए। एक संघीय जाच एजेंसी होनी चाहिए। जिसे हर तरह से जाच करने की आज़ादी मिलनी चाहिए।सभी जाच एजेंसिया एक कमांड के तले कार्य करे तो बेहतर परिणाम की उम्मीद की जा सकती है। केन्द्र सरकार को चाहिए की वह सभी राज्यों के साथ मिलकर एक ऐसी अंतर्राज्यीय जांच एजेंसी का निर्माण करे जो हर तरह से परिपूर्ण हो। जो पूरे देश में एक समान रूप से लागू हो। या फिर, भारत की सर्वोच्च जाच संस्था सी बी आई को अमेरिका की जाच संस्था ऍफ़ बी आई जैसी पावर और अधिकार मिलने चाहिए। ताकि वह किसी भी प्रकार के राजनैतिक दबाव में न आए और स्वतंत्र और निष्पक्ष जाच करे। भारत की पुलिस तंत्र को और मजबूत करने की बेहद ज़रूरत है। हर राज्य की पुलिस और केन्द्रीय खुफिया एजेंसियों में अच्छा और फास्ट तालमेल होना चाहिए। वैसे तो भारत ही नही पूरा विश्व आतंकवाद से जूझ रहा है, लेकिन चूँकि भारत सदा से शान्ति का पुजारी रहा है, और वो आगे भी विश्व समुदाय को शान्ति और अहिंसा का मार्ग दिखाता रहेगा। कुछ लोग इसे भारत की कमजोरी समझते हैं। पर हमारी सरकार को कुछ ऐसा करना चाहिए की विश्व समुदाय इसे भारत को अपनी कमजोरी के रूप न देखे। नही तो देश की स्थिति दिनों-दिन और भी बदतर होती जायेगी और आम जनता में भय और दहशत का माहौल व्याप्त हो जाएगा। लेकिन ऐसा लगता हैं कि केंद्र और राज्य सरकारों की इच्छा शक्ति मे ही कुछ कमी है।


उस को मेरा हल्का सा एहसास तो है,
बेदर्द ही सही वो मेरी हमराज़ तो है।

वो आए न आए मेरे पास लेकिन,
सिद्दत से मुझे उसका इंतज़ार तो है।

अभी नही तो क्या हुआ, मिल ही जायेगी कभी,
मेरे दिल में उससे मिलने की आस तो है।

प्यार की गवाही मेरे आंसुओं से न मांगो,
बरसती नही आँखें मगर दिल उदास तो है।

रंग-ओ-खुशबू कहाँ बहार में है,
और किसी शेह में इस कदर है कहाँ,
जो इत्मिनान और सुकून प्यार में है।
उनका हासिल भी लुत्फ़ हो शायद,
कहाँ वो लुत्फ़ जो इंतज़ार में है।
साज़ तो दिल से आ निकलता है,
भला कहाँ वो हुनर तार में है।

होठों पे मोहब्बत के फ़साने नही आते
साहिल पे समुन्दर के हजाने नही आते
पलकें भी चमक उठी हैं सोते ही हमारी
आंखों को अभी ख्वाब छुपाने नही आते।


दिल उजड़ा है एक सराए की तरह है
अब लोग यहाँ रात जगाने नही आते
यारों नए मौसम ने ये एहसान किए हैं
अब याद संजोये दर्द पुराने नही आते।


उड़ने दो अभी परिंदों को खुली हवा में
फिर लौट के बचपन के ज़माने नही आते
इस शहर के बादल तेरी जुल्फों की तरह हैं
ये आग लगाते हैं पर बुझाने नही आते।


अहबाब भी घरों की तरह अदा सीख गए हैं
आते हैं मगर दिल को दुखाने नही आते।

आंखों को अभी ख्वाब छुपाने नही आते।

होठों पे मोहब्बत के फ़साने नही आते।

दुनिया भर में विख्यात बिहार के सोनपुर का हरिहरक्षेत्र पशु मेला एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला माना जाता है और यहाँ अनेक देशों के लोग घूमने आते हैं. कार्तिक पूर्णिमा से शुरू होने वाले इस वार्षिक मेले में विदेश से भी लोग आते हैं.

इस मेले में अगर घोड़े की क़ीमत तीन लाख रुपए तक है तो यहाँ बिकने वाले समोसों की क़ीमत भी अपने आप में एक रिकार्ड है। कई बार ख़रीददार अपनी शान का प्रदर्शन करने के लिए भी मुँहमांगी क़ीमत अदा करते हैं। क़रीब दो वर्ष पहले रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव के घोड़े 'चेतक' को ख़रीदने के लिए बोली लगी और वह एक लाख एक हज़ार रुपए में बिका. इस वर्ष एक विक्रेता ने अपनी एक घोड़ी क़ीमत तीन लाख तय की है तो वैशाली के कौशल किशोर सिंह के घोड़े की बोली एक लाख सत्तर हज़ार रुपए लग रही है.

सैलानी यहाँ जो भी खरीदारी करते हैं और उसकी जो क़ीमत चुकाते हैं, वह सामान्य से कई गुना ज़्यादा होती है पर उनके लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं होता है। मेले की भीड़-भाड़ में अपनी दुकान सजाए दुकानदारों का अपना मत है। वे कहते हैं की मेले में बिकने वाली चीज़ों की क़ीमत अगर सामान्य हो तो ख़रीददार के लिए इसमें कोई ख़ास आकर्षण नहीं होता और दूसरी बात यह है कि हमारी भी कोशिश होती है कि हम कुछ अधिक कमा सकें लेकिन अगर चीज़ों के दाम बिल्कुल असमान्य हों तो यह किसी भी तरह अच्छी बात नहीं है।

गंगा और गंडक के मुहाने पर लगने वाले इस मेले का इतिहास राजा चंद्रगुप्त मौर्य के ज़माने से जोड़ा जाता है. कहा जाता है कि चंद्रगुप्त मौर्य अपनी सेना के लिए हाथियों की ख़रीददारी गंगा के इसी क्षेत्र से करते थे. हालाँकि आज भी इस मेले में हाथी और घोड़े काफ़ी संख्या में ख़रीद-बिक्री के लिए लाए जाते हैं लेकिन वन्यजीवों की ख़रीददारी पर सख़्त क़ानूनी शिकंजे के कारण रफ़्ता-रफ़्ता इस मेले का आकर्षण भी कम हुआ है.
लेकिन राज्य सरकार अब इस कोशिश में जुटी है कि इस मेले की पुरानी रौनक़ फिर से बहाल हो सके. इससे बिहार के पर्यटन उद्योग के साथ-साथ सोनपुर के विकास को बढावा मिलेगा और स्थानीय जनता को भी फायदा पहुचेगा।


आकर मेरी कब्र पे तुने जो मुस्कुरा दिया,
बिजलियाँ चमक उठी, सारा बदन जला दिया।
जीते जी न पूछा हाल-ऐ-दिल कभी,
अब आए हो पूछने जब ख़ाक में मिला दिया ?

हमें भी मिले कोई चाहने वाला,
हम तो प्यार के लिए बेकरार बैठे हैं।
कोई वादा करे जो सपनो में आने का,
हम तो उम्र भर सोने को तैयार बैठे हैं।

दुनिया का हर शौक पाला नही जाता,
कांच के खिलौनों को यूँ उछाला नहीं जाता।
मेहनत करने से मुश्किले हो जाती हैं आसान, हर काम तकदीर पे डाला नहीं जाता।

After having failed his exam in "Logistics and Organization" , a student goes and confronts his lecturer about it.
Student: "Sir, do you really understand anything about the subject?"
Professor: "Surely I must. Otherwise I would not be a professor!"
Student: "Great, well then I would like to ask you a question. If you can give me the correct answer, I will accept my mark as is and go. If you however do not know the answer, I want you give me an "A" for the exam. "
Professor: "Okay, it's a deal. So what is the question?"
Student: "What is legal, but not logical, logical, but not legal, and neither logical, nor legal?"
Even after some long and hard consideration, the professor cannot give the student an answer, and therefore changes his exam mark into an "A", as agreed.
Afterwards, the professor calls on his best student and asks him the same question.
He immediately answers: "Sir, you are 63 years old and married to a 35 year old woman, which is legal, but not logical. Your wife has a 25 year old lover, which is logical, but not legal. The fact that you have given your wife's lover an "A", although he really should have failed, is neither legal, nor logical."



कलम थी हाथ में, लिखना सिखाया आपने,
ताकत थी हाथ में, हौसला दिलाया आपने,
मंजिल थी सामने, रास्ता दिखाया आपने,
हम तो अजनबी थे, दोस्त बनाया आपने।

दुनिया बदल जाए, तुम न बदलना,
मुश्किलों में हो जब भी, याद हमें कर लेना.
मांगे भी आपसे तो क्या मांगे,
देना कुछ चाहो तो बस मुस्कुरा देना।

रहने दे आसमा, जमीं की तलाश कर,
सब कुछ यहीं है न कहीं और तलाश कर।
हर आरजू पूरी हो तो जीने का क्या मज़ा,
जीने के लिए बस एक कमी की तलाश कर।

तुम्हे लाखो की भीड़ में पहचानता है कोई,
दिन रात खुदा से तुम्हे मांगता है कोई,
तुम ख़ुद से वाकिफ नही होंगे इतने,
तुम्हे तुमसे भी ज़्यादा जानता है कोई।

आंसुओ को बहुत समझाया, तन्हाई में आया न करो,
महफिल में हमारा मज़ाक उड़ाया न करो,
इसपर आँसू तड़प कर बोले...
इतने लोगो में आपको तनहा पाता हूँ, इसीलिए चला आता हूँ।

रौशनी होते हुए भी दिल में अँधेरा है,
इन अंधेरो में किसी का बसेरा है,
आना कभी रोशन करना हमारी महफिल को,
देखना दिल की हर दिवार पे नाम तेरा है।

ज़ख्म इतने गहरे थे, इज़हार क्या करते,
हम ख़ुद निशाना बन गए, वार क्या करते,
मर गए हम मगर खुली रही आँखें,
अब इससे ज्यादा उनका इन्तिज़ार क्या करते.


खुदा करे हमारी दोस्ती ऐसी हो,
चोट तुम्हे लगे और दर्द मुझे हो,
दिल तुम्हारा धड़के और धड़कन मेरी हो,
नौकरी तुम करो और सेलरी मेरी हो।

हर समुन्दर में साहिल नहीं होता,
हर जहाज़ में मिसाइल नहीं होता,
अगर धीरुभाई का सपना नहीं होता,
तो हर %$$$ के पास मोबाइल नहीं होता।

ख़ुद को कर बुलंद इतना..
कि हिमालय की चोटी पे जा पहुंचे..
और खुदा तुमसे पूछे..
‘अबे गधे… अब उतरेगा कैसे???

१४ फ़रवरी को हम कही लेकर जायेंगे।



बताओ कहा?
...


...
अरे सोचो!
...


...
सोचो न!
...
चलो ठीक है बता देते हैं.
...


...
पोलियो ड्राप पिलाने!!
….माय स्वीट बेबी।


चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों….
न मैं तुम से कोई उम्मीद रखूँ दिल नवाजी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो ग़लत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खडाए मेरी बातों में
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कसमकस का राज़ नज़रों से
तारुफ़ रोग हो जाए तो उस को भुलाना बेहतर
तालुक बोझ बन जाए तो उस को तोड़ना अच्छा
वो अफसाना जिसे तकमील तक लाना न हो मुमकिन
उसे एक खूब सूरत मोढ़ दे कर छोड़ना अच्छा
तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेश कदमी से
मुझे भी लोग कहते हैं के ये जलवे पराये हैं
मेरे हमराह भी रुस्वाइयां हैं मेरे माझी की
तुम्हारे साथ भी गुजरी हुई रातों के साए हैं।
चलो एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों…..


याद आता हैं बहुत वो गुज़रा हुआ ज़माना
वो स्कूल की लाइफ वो बचपन का याराना
लेफ्ट राइट कहते हुए हाथों को उठाना
वो इकबाल की दुआ वो असम्बली का तराना

वो घंटी बजते ही क्लास्सेस से निकलना
वो लंच में जा कर छोले चाट खाना
वो गर्मियों की छुट्टियों में घुमने को जाना
वो मस्तियाँ करना और मौज मनाना

हर खुफ्फ़ से आजाद ज़िन्दगी गुज़रना
वो बात बात पर अम्मी से जिद करना
वो गलतियों पे मासूमियत से सॉरी कहना
वो गुस्से में अम्मी का डाटना


वो दादी को बात बात पर सताना
और दादी का शफ़क़त से समझाना
वो रात को होमवर्क के वक़्त बहाने करना
और क्लास में मिस का मुर्गा बनाना

मुड़कर कर देखता हूँ तू सोचता हूँ
क्या ज़माना था वो जो गुज़र गया
वो ज़माना कितना सुहाना था
वाकई क्या ज़माना था...

जम्मू कश्मीर में aaj चार ज़िलों की विधानसभा ki 10 सीटों के लिए मतदान हो रहा है. ये ज़िले हैं पुँछ, बांदीपुरा, करगिल और लेह. इन जगहों पर सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं और सिर्फ़ पुँछ में ही अर्धसैनिक बलों की 80 कंपनियाँ तैनात की गई हैं.
भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी संगठन ऑल पार्टी हुर्रियत कॉन्फ़्रेंस और कुछ अन्य नेता विधानसभा चुनावों का बहिष्कार कर रहे हैं. हालाँकि, हुर्रियत ने वर्ष 2002 के चुनावों का भी बहिष्कार किया था लेकिन इस बार संगठन ने जगह-जगह पर रैलियाँ आयोजित कर अपने इस कदम के बारे में लोगों को बताने और उन्हें अपनी बात पर राज़ी करने का प्रयास किया है. उनका मानना है कि बिना कश्मीर समस्या के हल के क्षेत्र में शांति बहाल नहीं हो सकती और चुनाव केवल ध्यान बाँटने का षड्यंत्र हैं.
कट्टरपंथी माने जाते सईद अली शाह गीलानी भी चुनावों का विरोध कर रहे हैं और चुनावों को बेमानी मानते हैं। वे त्रिपक्षीय वार्ता हो और भारत और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह के हक़ में हैं.

अलगाववादियों और चरमपंथियों के बारे में नेशनल कॉन्फ़्रेंस ने कहा है कि 'यदि वे चाहें तो चुनावों का बहिष्कार कर सकते हैं लेकिन उन्हें ज़ोर-ज़बर्दस्ती से किसी को रोकने का हक़ नहीं है.'

पर्यवेक्षकों का कहना है की बांदीपुरा और सोनावाड़ी विधानसभा क्षेत्रों में लोग मतदान के लिए घरों से निकल रहे हैं और ख़राब मौसम के बावजूद मतदान की गति अच्छी है. अलगाववादियों के चुनाव बहिष्कार की अपील का कश्मीर घाटी में असर नज़र नहीं आ रहा है जो इस बात को साबित करता है की जम्मू-कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न हिस्सा तो है ही, कश्मीर की जनता भी भारतीय लोकतंत्र में बिस्वास रखती है और वो भारत के साथ है।



टुकडों में बिखरा हुआ
किसी का जिगर दिखायेंगे
कभी आना हमारी बस्ती
तुम्हे अपना घर दिखायेंगे।

होंठ काँप जाते हैं
थरथराती हैं जुबां
टूटे दिल से निकली हुई
आहों का असर दिखायेंगे।

कभी आना हमारी बस्ती
तुम्हे अपना घर दिखायेंगे।

कहीं तस्वीर हैं तेरी
कहीं लिखा हैं तेरा नाम
मंदिर-मस्जिद जितना पाक
एक दीवार-ओ-दर दिखायेंगे।

कभी आना हमारी बस्ती
तुम्हे अपना घर दिखायेंगे।


एक पोछ पाता नहीं
एक और छलक जाता हैं
पलकों से दामन तक का
अश्कों का सफ़र दिखायेंगे।

कभी आना हमारी बस्ती
तुम्हे अपना घर दिखायेंगे।

सवाल:-
एक वादा था हर वादे के पीछे,
तू मिलेगा हर गली हर दरवाजे के पीछे,
तुमसे प्यार बहुत किया था,
मगर एक तू ही न था मेरे जनाजे के पीछे .

जवाब:-
एक वादा था हर वादे के पीछे ,
मै मिलूँगा हर गली हर दरवाजे के पीछे,
तुमने ही मुड़कर नही देखा एक जनाजा था,
आपके जनाजे के पीछे ।

By... Anu
चाँद तारों से सजी रात भला क्या मांगे,
जिस को मिल जाए तेरा साथ भला क्या मांगे।
लब पे आई न दुआ और कुबूल हो भी गयी,
अब दुआओं में उठे हाथ भला क्या मांगे।

जिसके ख़्वाबों की हो तकमील उसे क्या ग़म हो,
मिल गयी जिस को कायनात, भला क्या मांगे।

मंजिल-ऐ-इश्क से आगे भी क़दम क्या जाए,
रंग-ऐ-मेहँदी से सजे हाथ भला क्या मांगे।

पा लिया जिस के अंधेरों ने रौशनी का सबब,
उस के महके हुए जज़्बात भला क्या मांगे।

दोस्त वही है जो आपको आपना मान सके,

आपके हर गम को बिन कहे जान सके।

आप चल रहे हो तेज़ बारिश में फिर भी,

पानी में आपके आंसू पहचान सके।

ये आईने से अकेले में गुफ्तगू क्या है
जो मैं नहीं तो फिर ये तेरे रूबरू क्या है
इसी उम्मीद पे काटी है ज़िन्दगी मैने
काश वो पूछते मुझसे कि आरजू क्या है।

वक्त गुज़रता रहा पर सांसें थमी सी थी,
मुस्कुरा रहे थे हम, पर आँखों में नमी सी थी,
साथ हमारे ये जहाँ था सारा,
पर न जाने क्यूँ कुछ कमी सी थी....

आंखों की जुबाँ वो समझ नही पाते,
होठ मगर कुछ कह नही पाते।
अपनी बेबसी किस तरह कहे...

कोई है जिसके बिना हम रह नही पाते।


यादें जब दिल में नहीं रूह में बस जाती हैं,
बादलों कि तरह आँखे भी बरस जाती हैं !
वो अगर तुम से खफा हैं तो खफा मत समझो,
लड़कियां प्यार में लड़कों पे बरस जाती हैं !

रोज मुझको तेरे आने की खबर मिलती हैं,
रोज मुझको मेरी तन्हाइयां डस जाती हैं !
तनहा रहता हूँ तो बीमार नज़र आता हूँ,
साथ रहते हैं तो बाछें मेरी खिल जाती हैं !

हुस्नवालों का भरोषा नहीं कीजिये साहब,
दिन बदलते हैं तो नज़रें भी बदल जाती हैं!

वो हमें चाहें न चाहें, ये और बात हैं,

मेरी चाहत तो आंखों से साफ़ झलक जाती हैं।


आज हम बिछड़े हैं तो कितने रंगीले हो गए,
मेरी आँखें सुर्ख तेरे हाथ पीले हो गए।
कब की पत्थर हो चुकी थी आँखें मगर,
छू के देखा तो मेरे हाथ गीले हो गए।

मस्त हवा का झोका पागल अच्छा लगता है,
बल खता लहराता आचल अच्छा लगता है !

वो शरमाई उसको एक दिन आईना यूँ बोला,
आप की आँखों में यह काजल अच्छा लगता है !

भीगी पलकें भीगा दामन भीगा भीगा ये आँचल,
मौसम-ऐ-गम में जल थल जल थल अच्छा लगता है !

सूखे लबों पे दुआ नमी सी जब जब आती है,
सावन की रिमझिम सा बादल अच्छा लगता है !

उसकी गली में मौत मिले तो सौ सौ बार मरुँ,
एक जनम में उसको पाना अच्छा लगता है !
...to whom i miss her...pal...


आँख से आँख मिला, बात बनाता क्यूँ है।
तू अगर मुझसे खफा है तो छुपाता क्यूँ है।
गैर लगता है, न अपनों की तरह मिलता है,
तू ज़माने की तरह मुझको सताता क्यूँ है।


वक्त के साथ हालात बदल जाते है।
यह हकीकत है मगर मुझको सुनाता क्यूँ है।
एक मुद्दत से जहाँ काफिले गुज़रे ही नही,
ऐसी राहों पे चिरागों को जलाता क्यूँ है।


अंगूर के बीज भूलने की बीमारी अल्जाइमर को रोकने में सहायक पाए गए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि जिन लोगों के मस्तिष्क का ‘हिप्पोकैंपस’ अपेक्षाकृत बड़ा होता है, वे लोग अल्जाइमर जैसे घातक रोग की चपेट में कम आते हैं। ‘हिप्पोकैंपस’ लंबे समय तक याददाश्त को बनाए रखने में सहायक होता है। हाल ही में अमेरिका के ‘आर्गेन हेल्थ एंड साइंस विश्वविद्यालय’ के शोधकर्ताओं ने एक नए अध्ययन के माध्यम से यह जानकारी दी है। शोधकर्ताओं ने इस विषय के तहत, बारह तेज याददाश्त वाले मृत लोगों के दिमाग का गहनता से अध्ययन किया था।

इन लोगों में पोस्टमार्टम के बाद अल्जाइमर रोग के लक्षणों के बारे में पता चला था। अध्ययनकर्ता डेनिज इर्टेन-लियोन्स ने बताया कि अध्ययन में 23 ऐसे लोगों को भी शामिल किया गया जिनकी याददाश्त और दिमाग तो उक्त लोगों की भांति तेज था। लेकिन इन लोगों के अल्जाइमर रोग से पीड़ित होने के बारे में मरने से पहले ही पता चल गया था। अध्ययनकर्ताओं को ज्ञात हुआ कि जिन लोगों में पोस्टमार्टम के बाद अल्जाइमर का पता चला था उनके दिमाग का ‘हिप्पोकैंपस’ भाग अपेक्षाकृत 20 गुना बड़ा था। अल्जाइमर से पीड़ित व्यक्ति का दिमाग काफी कमजोर हो जाता है। वह अपनी याददाश्त भी खोने लगता है।

मानव याददास्त को बढ़ाने के लिए प्रयास अब भी जारी हैं।
फ्लिंडर्स विश्वविद्यालय के जिन फु झाउ के नेतृत्व में शोधकर्ताओं के एक समूह ने चूहे पर किए प्रयोग में पाया कि अंगूर के बीज के रस को भोजन के रूप में देने से दिमाग में ‘अमीलायड प्रोटीन’ का बनना रुक जाता है। चूहों पर इस दवा के सफल प्रयोग से उत्साहित संस्थान ने अमेरिका स्थित पेटेंट कार्यालय में इसके पेटेंट के लिए दावा किया है। शिकागो में ‘एकेडमी ऑफ न्यूरोलॉजी’ के सम्मेलन में प्रस्तुत किए गए निष्कर्षो में शोधकर्ताओं ने बताया है कि विटामिन ई का सेवन ‘अल्जाइमर’ (भूलने की बीमारी) के मरीजों को लंबे समय तक जीवित रखने में सहायक है।
राष्ट्रीय वनस्पति शोध संस्थान (एनबीआरआई) के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी हर्बल (जड़ी बूटियों से बनी) टॉनिक विकसित करने का दावा किया है जो भूलने की बीमारी में लाभदायक होगी। एनबीआरआई के एक औषधि विज्ञानी और इस विषय पर शोध कर रहे समूह के सदस्य सी.वी.राव ने आईएएनएस को बताया कि, “हमारा यह हर्बल नुस्खा याददाश्त बढ़ाने में मदद करेगा और इस तरह यह अल्जाइमर्स का इलाज करने में सहायक होगा”। हॉस्टन के ‘ब्लेयर कालेज ऑफ मेडिसिन’ के शोधकर्ताओं ने बताया कि अल्जाइमर की बीमारी के बारे में जाना जाता है कि इस बीमारी के इलाज की प्रक्रिया बहुत धीमी होती है और यह मरीजों के जीवन जीने की अवधि को भी कम देता है, लेकिन अब वे विटामिन ई के सेवन से लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं।

एक अध्ययन से पता चला है कि दर्द-निवारक दवाओं की एक नई श्रेणी याददाश्त को प्रभावित कर सकती है। ब्राउन विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार कुछ खास किस्म की आधुनिक दर्द निवारक दवाएं ‘टीआरपीवीआई’ नामक ‘रिसेप्टर’ (ग्रहणनलिका) का मार्ग अवरूद्ध कर देती हैं, जो स्मरण-शक्ति के लिए जिम्मेदार होती हैं। ‘न्यूरॉन’ पत्रिका के ताजा अंक में इस शोध के बारे जानकारी देते हुए बताया गया है कि टीआरपीवीआई के ऊतकों को ‘एकोंपलिया’ नामक मोटापा घटाने वाली दवा से भी नुकसान पहुंचता है।
गौरतलब है कि यह दवा अमेरिका के अलावा दुनिया भर में प्रचलित है। अमेरिका इस दवा को मान्यता नहीं दे रहा है क्योंकि उसका मानना है कि यह दवा अवसाद और आत्महत्या को बढ़ाने में भी जिम्मेदार होती है। अध्ययन के सह-लेखक वेलोरी पेवलिक के मुताबिक, “यह अध्ययन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अभी हाल के अध्ययन में पाया गया था कि हृदय के रोगियों के लिए विटामिन ई का ज्यादा सेवन नुकसानदायक है।”शोधकर्ताओं ने शोध के दौरान अल्जाइमर से ग्रस्त 847 मरीजों को पांच साल तक विटामिन ई का सेवन कराया। उन्होंने पाया कि जिन दो-तिहाई मरीजों ने अपनी दवा के साथ दिन में दो बार विटामिन ई का सेवन किया, उनकी मृत्यु की संभावना 26 फीसदी तक कमी पाई गई।

मस्तिष्क के इलाज में इस्तेमाल होने वाली अन्य दवाओं से इतर यह हर्बल टॉनिक मस्तिष्क के रक्तसंचार अवरोधों को दूर करता है और मस्तिष्क और तंत्रिकाओं के बीच संचार को कायम करता है। अमीलायड बीटा प्रोटीन’ के अधिक उत्पादन या उसे नष्ट करने में शरीर की अक्षमता के कारण दिमाग में ग्रंथियां बनने लगती हैं, जो अल्जाइमर का प्रमुख कारण बनती हैं। अमीलायड की अधिकता के कारण शिराओं के जोड़ क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। इस कारण दिमाग में सूजन आ जाती है। परिणामस्वरूप रोगी की संवेदनशक्ति समाप्त हो जाती है। इसलिए इस अवस्था से निपटना हो तो अंगूर तो खाइए अंगूर के बीज का भी सेवन करें।


वो सितारा जो आसमान में है
मेरी पलकों के दरमियाँ में है
किस तरह हुए दिल के टुकड़े
तीर तो अब तक गुमान में है।
कोई सूरत नही बहलाने की
हर घड़ी वो जो मेरे धयान में है
वो कहाँ किस्सा-ऐ-मोहब्बत में है
जो मज़ा अपनी दास्ताँ में है।
इसने जब से नसीब-ऐ-दिल बदला
ज़िन्दगी अपनी इम्तेहान में है
दिल में यूँ तो कोई नही
एक साया पर मकाम में है।



तुम्हे जफा से यूँ न बाज़ आना चाहिए था
अभी कुछ और मेरा दिल दुखाना चाहिए था
तवील रात के पहलू में कब से सोये है
नवीद-ऐ-सुबह तुझे जग जाना चाहिए था।


बुझे चिरागों में कितने है जो जले ही नही
सवाद-ऐ-वक्त इन्हे जगमगाना चाहिए था
अजब न था के क़फ़स साथ ले के उड़ जाते
तड़पना चाहिए था फदफदाना चाहिए था।


यह मेरी हार के कार्य-ऐ-जान से हारा मगर
बिछड़ने वाले तुझे याद आना चाहिए था
तमाम उम्र की आसूदगी-ऐ-विसाल के बाद

आखरी धोखा था खाना चाहिए था।

दिल की दुनिया टूटने के बाद सब रोते थे,
हम थे की पागलों की तरह हँसते थे,
यह हल-ऐ-दिल हम कैसे सुनाते सबको कि,
तकलीफ न हो उनको इस लिए अकेले रोते थे।


बनाके अपना हमको भुलाने वाले हो तुम,
दिखाके रौशनी हमको जलाने वाले हो तुम,
अभी तक हम पुराने जख्मो से उभरे नही,
आज फिर से कोई नया दर्द उठाने वाले हो तुम,
इतनी रातें हमने आँखों में गुजारी है,
क्या आज रात मेरे खवाबो में आने वाले हो तुम।

हर दर्द हर ज़ख्म की वजह दिल है
प्यार आसान है मगर निभाना मुस्किल है।
डगर टेडी-मंदी भूलभुलैया मंजिल है
लहर बचा देती है डूबा देता साहिल है
तूफान से बना इसमे दरिया गया मिल है।


जो भूलना होता इतना आसान तो कबके हम तुझे भूल जाते,
न करते तुझसे फरियाद मिलने की, न तुझे कभी याद आते।
मिटा दिया हमने अपना सारा वजूद, तेरा प्यार पाने में,
काश के तुम भी मेरे प्यार की गहराई को कभी समझ पाते।

किया था तुमने वादा हमसे दोस्ती का ए दोस्त,
तो उस दोस्ती का कुछ रश्म- अदायगी तो तुम कर जाते।
मिटाने चलें हैं आज अपनी हस्ती इस अफ़सोस के साथ,
ज़िन्दगी कि राह में कहीं तो अपना एक मुकाम बनाते।
-------------------------------------------
ख़ुशी इतनी हो कि तुम दिखा सको,
गम बस इतना हो जिसे तुम छिपा सको,
जिंदगी में कम से कम एक दोस्त ऐसा रखना,
जिसके साथ ऑफ़ मूड में भी मुस्कुरा सको।



दिल की बातें बता देती है आँखें
धडकनों को जगा देती है आँखें
दिल पे चलता नही जादू चेहरों का कभी
दिल को तो दीवाना बना देती है आँखें।


वो हमसे बात नही करते, तो न करे
हाल सारा उनके दिल का सुना देती है आँखें
ग़म सदा रहता है, आदमी के साथ
अश्क बनकर छलका देती है आँखें।


आता है जब दौर-ऐ-जवानी,तो ए दोस्तों
सुंदर सपने जाहें में बसा देती है आँखें
माना के नींद आती है,आंखों ही के रास्ते
मगर कभी कबर नींद भी उड़ा देती है आँखें।


शुकर है खुदा ने अदा की आंखों की नेमत हमें
दर्द-ओ-ग़म सारे दिल के छुपा देती है आंखें।


Spl.For- Anu

आज कल भारत में 'आतंकवादी' घटनाएँ क्यों हो रही हैं? क्या इन घटनाओं को आतंकवाद कहना भी चाहिए या ये महज़ क़ानून और व्यवस्था की घटनाएँ जिन्हें कुछ निजी स्वार्थों की वजह से 'आतंकवाद' का नाम दे दिया जाता है. भारत में पिछले कुछ समय पर नज़र डालें तो अनेक ऐसी घटनाएँ हुई हैं जो भारत की क़ानून और व्यवस्था के साथ-साथ राजनीतिक नेतृत्व और सरकार के लिए भी चुनौती हैं लेकिन क्या इस चुनौती का सामना करने के लिए समुचित रणनीति पर ग़ौर किया जा रहा है या फिर इन हालात को राजनीतिक स्वार्थों के लिए भुनाने की कोशिश की जा रही है?
इतना ही नहीं, एक तबका इन्हें हिंदू और मुसलमानों से भी जोड़कर देखने लगा है. मगर इसमें धर्म को खींचना ग़लत है. जो लोग क़ानून के ख़िलाफ़ जो भी कार्रवाई करते हैं वे सब क़ानून की नज़र में अपराधी हैं और उनके साथ उसी के अनुसार बर्ताव होना चाहिए. इसमें हिंदू या मुसलमान होने की कोई बात ही नहीं है. क़ानून की नज़र में अगर किसी ने कोई जुर्म किया है तो उसी के अनुसार उनका दर्जा तय होना चाहिए.
आतंकवाद का इस्तेमाल किसी राजनीतिक उद्देश्य के लिए किया जाता था लेकिन अब इसकी परिभाषा कुछ बदल गई है, आतंकवाद का मतलब होता था किसी राजनीतिक लक्ष्य को हासिल करने के लिए की गई विध्वंसक कार्रवाई लेकिन अब इसका मतलब कुछ बदल सा गया है. भारत में जो बम विस्फोट की घटनाएँ हो रही हैं उनका राजनीतिक लक्ष्य सरकार को अस्थिर करना हो सकता है. इन घटनाओं को तथाकथित इस्लामी आतंकवाद से नहीं जोड़ा जा सकता क्योंकि यह उस तरह का आतंकवाद है जो किसी परेशानी या हताशा की वजह से पैदा हुआ है.
ऐसे में जब भी किसी समुदाय के कुछ सदस्यों की गतिविधियों की वजह से पूरे समुदाय को ज़िम्मेदार ठहराया जाता है तो उसके ख़तरनाक परिणाम होते हैं. इस प्रवृत्ति को ख़त्म किया जाना चाहिए. हाल के समय में आज़मगढ़ को आतंकवाद का गढ़ कहा जाने लगा जबकि सच्चाई ये है कि आज़मगढ़ में लाखों लोग रहते हैं और अगर उनमें से चंद लोग किन्ही विध्वंसकारी गतिविधियों में शामिल हो भी गए तो पूरे आज़मगढ़ को कैसे ज़िम्मेदार ठहराया जा सकता है. इसी प्रकार वर्ष २००२ में गुजरात में हुए सांप्रदायिक दंगों के के लिए कुछ हिंदुओं को ज़िम्मेदार ठहराया था लेकिन इस आधार पर यह तो नहीं कहा जा सकता कि सारे गुजराती हिंदू सांप्रदायिक ही होते हैं.
कुछ हिंदुओं का कहना है कि जितनी भी 'आतंकवादी' घटनाएँ होती हैं उनमें मुसलमानों का हाथ होता है. दूसरी तरफ़ अनेक मुसलमानों का कहना है कि उनके साथ ना सिर्फ़ भेदभाव होता है बल्कि बड़े पैमाने पर उनके अधिकारों का उल्लंघन होता है. उन पर हमेशा शक किया जाता है. ऐसे माहौल में किसी घटना की सच्चाई क्या है, उसे जानने का इंतज़ार करने के बिना बहुत से लोग आनन-फानन में कोई राय बना लेते हैं जिसे देश और समाज का शायद इतना बड़ा नुक़सान हो जाता है जिसकी भरपाई करना अगर असंभव नहीं तो बेहद मुश्किल ज़रूर होता है. क्या मीडिया को ऐसे माहौल में संयम बरतने की ज़रूरत है.
मुसलमान भारत का सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है और उनके एक तबके में ये भावनाएँ पनप रही हैं कि इस समुदाय को दबाने की कोशिश की जा रही है और ऐसा जब भी होता है वो राजसत्ता की मदद से होता है. चिंता की बात ये है कि राजनीतिक नेतृत्व की उदासनीता की वजह से एक धर्मनिर्पेक्ष देश में समाज सांप्रदायिक रास्तों पर बँटता नज़र आने लगता है.
इसके लिए राजनीतिक स्वार्थ ज़्यादा ज़िम्मेदार हैं यह एक ख़तरनाक प्रवृत्ति है जिसे रोकना होगा. मेरी समझ में राजनीतिक नेतृत्व ही सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदार है. जब भी कोई घटना होती है तो उन सबका ध्यान सिर्फ़ वोट की राजनीति पर होता है. अगर वोट की राजनीति ना हो तो, बहुत सारी घटनाएँ हो ही नहीं. मुझे सबसे बड़ा अफ़सोस यही है कि जिनके हाथ में क़ानून को लागू करने की ज़िम्मेदारी है, वो ऐसी कोई घटना होने क्यों देते हैं और अगर कोई घटना हो जाती है तो जो गुनहगार हैं उन्हें पकड़कर सख़्ती से सज़ा क्यों नहीं दिलवाते हैं.
अगर हम इस बहस को सीमित करते हुए यह कहें कि दरअसल यह कोई 'आतंकवाद' नहीं बल्कि क़ानून और व्यवस्था का एक मामला है तो शायद कुछ ग़लत नहीं होगा क्योंकि अनेक जानकारों का मानना है कि हर समस्या की कोई ना कोई जड़ होती है और उसमें हिंदू- मुसलमान या ईसाई रंग ढूंढना ग़लत है।
ऐसे में क्या राजनीतिक नेतृत्व की ज़िम्मेदारी इस ख़तरनाक मानसिकता को बढ़ने से रोकने की नहीं है. क्या सरकार की ज़िम्मेदारी नहीं बनती कि समस्या की जड़ को समझने की कोशिश करे और उसी के अनुसार कोई ऐसा रास्ता निकाला जाए जिससे समाज को बँटने से रोका जा सके.
कभी दुःख की आंच किसी पे न आने देना
आया हैं मेहमान कोई तो न जाने देना।
हर घडी खुद से उलझ जाती हूँ मैं
अगर कोई मनाये तो मनाने देना।
मैं जो अक्सर तन्हाई में रो पड़ती हूँ
किस्सा-ए-गम सुनाऊं तो सुनाने देना,
उसने भेजा हैं यह पैगाम बाजूर
हवा जुल्फ तुम्हारी लहराए तो लहराने देना।
हर बात का मतलब गलत न निकला करो
जब मैं समझाऊँ तो समझाने देना।

एक ग़ज़ल उसपे लिखूँ दिलका तकाज़ा हैं बहोत,
इन् दिनों खुदसे बिछड़ जाने का धड़का हैं बहोत।
रात हो दिन हो गफलत हो कि बेदारी हो,
उसको देखा तो नहीं हैं उसे सोचा हैं बहोत।
मेरे हाथों कि लकीरों के इजाफे हैं गवाह,
मैंने पत्थर की तरह खुदको तराशा हैं बहोत।

With Spl.Thanks to Vibha

अमरीका के राष्ट्रपति चुनावों में इतिहास रचते हुए डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार बराक ओबामा अमरीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. रिपब्लिकन उम्मीदवार जॉन मक्कैन ने हार मान ली है और इसे 'अमरीका के इतिहास में अश्वेत अमरीकियों के लिए इसे एक महत्वपूर्ण क्षण' बताया था. उनका कहना था, "मैं सीनेटर ओबामा का प्रशंसक हूँ. मैं आप से अपील करता हूँ कि अगले चार साल आप उन्हें सहयोग दें. लाखों अफ़्रीकी अमरीकियों के लिए एक नया दौर शुरु हुआ है. अमरीका दुनिया का सबसे महान देश है. ओबामा ने ये साबित कर दिया है कि अमरीका सभी लोगों को अपने सपने साकार करने का बराबर का अवसर प्रदान करता है."
मैक्केन के हार स्वीकार कर लेने के बाद, अपने भावुक समर्थकों को संबोधित करते हुए ओबामा ने कहा, "अमरीकी लोगों ने घोषणा की है कि बदलाव का समय आ गया है। अमरीका एक शताब्दी में सबसे गंभीर समस्याओं से जूझ रहा है मैं सभी अमरीकियों को साथ लेकर चलना चाहता हूँ - उनकों भी जिन्होंने मेरे लिए वोट नहीं डाला....ये नेतृत्व का एक नया सवेरा है. जो लोग दुनिया को ध्वस्त करना चाहते हैं, उन्हें मैं कहना चाहता हूँ कि हम तुम्हें हराएँगे. जो लोग सुरक्षा और शांति चाहते हैं, हम उनकी मदद करेंगे..."

हमारे भारत देश और भारतवासियों को भी आप से (अमेरिका के नए राष्ट्रपति - ओबामा) बहुत कुछ उम्मीदें हैं...


CONGRATULATIONS!!! Obama.

Democratic Senator Barack Obama has been elected the first black president of the United States.

"It's been a long time coming, but tonight... change has come to America," the president-elect told a jubilant crowd at a victory rally in Chicago.

His rival John McCain accepted defeat, saying "I deeply admire and commend" Mr Obama. He called on his supporters to lend the next president their goodwill.

Please get this world in a new space of dream whare peace & prosperity would be forever to all.




वफ़ा के वादे वो सारे भुला गई चुप चाप।
वो मेरे दिल की दीवारें हिला गई चुप चाप।
गम-ऐ-हयात के तपते हुए बियाबान में,
वो तनहा छोड़ के मुझको चली गई चुप चाप।
मैं जिसको छूता हूँ वो ज़ख्म देते हैं,
वो फूल ऐसे चमन में खिला गई चुप चाप।

मत रोना इतना के हँसना मुश्किल हो जाए,
मत हँसो इतना के रोना मुश्किल हो जाए।
किसीको चाहना अच्छी बात है,
मगर मत चाहना इतना के,
उसे भुलाना मुश्किल हो जाए।


उनसे नैन मिला कर देखो
ये धोखा खा कर देखो।
दूरी में क्या भेद छिपा है
इसकी खोज लगाकर देखो।
किसी अकेले शाम की चुप में
गीत पुराने गाकर देखो।
आज की रात बहुत काली है
सोच के दीप जला कर देखो।
जाग जाग कर उमर कटी है
नींद के द्वार हिलाकर देखो।

बात तब की है जब हुस्न परदे में रहता था,
और इश्क उसे देखने के लिए खुदा से फरियाद किया करता था.
"ऐ खुदा, हवा का एक झोंका आए और वो बेनकाब हो जाए"
एक दिन इश्क गुज़र गया और हुस्न उसकी कब्र पर फूल चढाने गई
जैसे ही हुस्न झुकी हवा का झोका आया और हुस्न बेनकाब हो गई
तब कब्र से ये आवाज़ आई...


"ऐ खुदा…
यह कैसी तेरी खुदाई है,
आज हम परदे में हैं और वो बेनकाब आई है"
'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' को बचाने की बालाजी टेलीफ़िल्म्स की कोशिश कामयाब नहीं हो पाईं है और मुंबई हाईकोर्ट ने सीरियल को एक महीने में बंद करने के स्टार टीवी के नोटिस पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। ‘क्योकि सास भी कभी बहु थी ’ धारावाहिक के प्रसारण की याचिका बोम्बे हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया है. यह सीरीयल १० नवम्बर को बंद हो जायेगा. इस सीरियल को बंद करने के लिए स्टार टीवी ने बालाजी टेलीफ़िल्म्स की प्रमुख एकता कपूर को एक महीने का नोटिस दिया था.

इसके ख़िलाफ़ बालाजी टेलीफ़िल्म्स ने मुंबई हाईकोर्ट में अपील की थी। लेकिन हाई कोर्ट ने शुक्रवार शनिवार को स्टे देने से इनकार करते हुए मामले की अगली सुनवाई तीन नवंबर को निर्धारित कर दी. स्टार के वकील रवि कदम का कहना था कि अनुबंध में ये बात थी कि अगर सीरियल की टीआरपी गिरती है तो उसे इस आधार पर इसे बंद किया जा सकता है. लेकिन बालाजी की दलील है कि स्टार प्लस ने इस सीरियल की लोकप्रियता बनाए रखने के लिए पर्याप्त विज्ञापन नहीं दिए.

स्टार प्लस पर 'क्योंकि सास भी कभी बहू थी' का प्रसारण पिछले आठ साल से किया जा रहा है। स्टार प्लस हो या बालाजी टेलीफिल्म्स, दोनों को ही समाज में पड़ते इसके दुष्प्रभावों से कोई सरोकार नही है. इन सीरीयलों में घर की औरतों को एक दुसरे को नीचा दिखाने, पति को अपनी अंगुली पर नचाने और अपनी ही देवरानी या जेठानी के बिरुद्ध साजिश रचते हुए दिखाया जाता है. इस प्रकार के सीरीयल समाज में ठीक ठाक चल रहे परिवारों को तोड़ने और अशांति फैलाने के काम कर रहे हैं. ऐसे धारावाहिकों पर रोक लगाना सर्वथा उचित ही है.

यह थी मेरी राय. आप की क्या राय है...ज़रूर व्यक्त करें.

बेबस बहुत है यह दिल बीमार बहुत है
अब आके मिलो हमसे दिल को यह इसरार बहुत है
एक शख्स जो हर बार खफा रहता है मुझसे
दिल उसकी मोहब्बत में गिरफ्तार बहुत है
माना हमें जीने का करीना नही आता
ऐ जीस्त मगर तुझसे हमें प्यार बहुत है
कुछ हम भी बुलाने का तकाज़ा नही करते
कुछ उनकी तबियत में भी इनकार बहुत है
इस जात के सेहरा की कड़ी धुप में हमको
साथी न सही लेकिन दीवार बहुत है.
पुराणों के अनुसार भगवान शंकर के त्रिशूल पर बसी धार्मिक नगरी वाराणसी में गंगा के घाटों पर प्रतिदिन सुबह से रात तक कोई न कोई धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम चलता रहता है. जब माँ गंगा में दीपकों का दान होता है, जब श्रद्धालू गण गंगा स्नान के लिए उमड़ते हैं, जब आध्यात्मिक मंत्रोच्चार और मंदिरों की घंटियों की आवाज कानो में पड़ती है, जब गंगा की पूजा की तथा आरती के दृश्य दिखायी पड़ते हैं तो माँ गंगा के प्रति हर कोई नतमस्तक हो ही जाता है.

लेकिन लगातार प्रदुषण की मार झेल रही भारत की “लाइफ लाइन” कही जाने वाली गंगा ऐसा लगता है जैसे आज तिल-तिल कर मर रही है लेकिन उसके तथाकथित पुत्र उसे चुप-चाप मरते हुए देख रहे हैं और गंगा कि दुर्दशा ऐसी तब है, जब ‘गंगा एक्शन प्लान’ का दूसरा चरण चल रहा है। कहना न होगा कि गंगा सफाई के नाम पर करोड़ों रुपए अब तक बहाए जा चुके हैं, लेकिन वही हालत है कि 'ज्यों-ज्यों दवा की, त्यों-त्यों मर्ज बढ़ता गया'। गंगा सफाई के सरकारी प्रयास के अलावा कम से कम तीन दर्जन गैर सरकारी संगठन वाराणसी में ऐसे हैं, जो दसों साल से गंगा प्रदूषण का राग अलाप रहे हैं, लेकिन गंगा में प्रदूषण रोकने के लिए प्रयास नहीं किए।

मां गंगा का आस्तित्व तभी है जब उनका प्रवाह अविरल बना रहे। मां गंगा को भी टिहरी में कैद करके रखा गया है। ‘गंगा तेरा पानी अमृत’ अब बीते जमाने की बात होकर रह गई है, क्योंकि वाराणसी में गंगा का पानी अब अपने प्रदूषण के उच्चतमस्तर पर पहुंच गया है। गंगा अब मरने की कगार पर पहुंच चुकी है और वह दिन दूर नहीं जब गंगा इतिहास के पन्नों में सरस्वती नदी की तरह कहीं खो जाएंगी। गंगा में ऑक्सीजन की मात्रा अबतक के निम्नतर स्तर पर है, क्योंकि टिहरी में गंगा के पानी को रोक को दिया गया है और गंदे नालों का पानी गंगा में लगातार गिर रहा है, जिससे ऑक्सीजन की मात्रा लगातार कम होती जा रही है। ‘नदी बेगे न शुद्धते’, अर्थात जिस नदी में धारा नहीं होगी उसकी गुणवत्ता भी समाप्त हो जाएगी।

टिहरी से गंगा को मुक्त कर दिया जाए और शहरों के गंदे नाले गंगा में गिरने बंद हो जाएं, तभी गंगा बच सकती है वरना इसे बचाना संभव नहीं है। यदि अब गंगा को बचाने के ठोस प्रयास नहीं किए गए तो गंगा को कोई नहीं बचा सकता है।


वो तसव्वुर जो अकेले में हँसाती थी कभी,
वो परी जो ख्यालों में आती थी कभी,
जिसके आने से हवाएं भी महक उठती थी,
वो जो चलती हुई सबा को जलाती थी कभी,
जिसके हँसी ने गुलों को भी सलीका बख्शा,
जो बिंदास सी लहरों को सिखाती थी कभी,
सारे तारों की चमक मंद किए देती थी,
वो जो पलकों को नजाकत से उठती थी कभी…
अब के दुशवार है क्यूँ उसका तसव्वुर करना,
जिसकी आँखें मेरे यादों को सजाती थी कभी।

मेरे दर्द-ऐ-दिल की थी वो दास्ताँ
जिसे हँसी में तुमने उड़ा दिया
जिससे बच रहा था मै संभल संभल कर,
वो दर्द आज फ़िर तुमने जगा दिया.
मुझे प्यार का शौक न रहा
मेरे दोस्त भी है सब बेवफा
जो करीब आए तो ज़िक्र हुआ
जो दूर हुए तो भुला दिया.
वो जो मिलते थे कभी रात में
गिले होते थे उनकी हर बात में
न वो दिल रहा न वो दोस्त रहा
मेरे ख़्वाबों को भी सुला दिया.
वो तो कहते थे हर बात में
की हम बसते हैं उनकी याद में
मैं न जान सकूँगा ये कभी
क्यूँ मुझको दिल से भुला दिया.

कुछ कारगर घरेलू ऊपाय
पायरिया के लिये हल्दी में सेंधा नमक सरसों का तेल मिलाकर दातों पर मलें ।

-त्वचा काली पड जाय तो हल्दी बादाम पीसकर दही में मिलाकर त्वचा पर लगायें।

-बवासीर होने पर,हल्दी की भुनी हुई गांठ को पीसकर ग्वरपाठा के गूदे के साथ लेना चाहिये या हल्का गर्म मस्से पर लगायें।

-दही जमाना गुनगुने दूध में फिटकरी घुमाकर थोड़ा जामन डालकर रख दें,दही बाजार जैसा जमेगा।

-मलाई जमा करनी हो तो उसमें एक चम्मच दही डालकर रख दें खराब नहीं होगी।

-अगर डोसा क्रिस्प बनाना होतो उडद की दाल ,थोडी सी चने की दाल ,मेथी के दाने1/2।च. एक कटोरी मुरमुरे डालें डोसा क्रिस्प बनेगा.

-भटूरे बनायें 500।ग्रा. मैदा.100.ग्रा.सूजी ½.च.बेकिंग पावडर ,एक चुटकी सोड़ाबाई कार्ब,1/2.कप दही ,2.च.चीनी,1कप पानी डाल कर गूदें,फिर लोई बनाकर ½ घं के लिये रख दें,फिर लोई बनायें फिर 10मि. के लिये छोड़ दें फिर बेले तलें.

-मलाई कोफ्ते में थोडी सूजी डालें टूटेगा नहीं।

-केले सूती गीले कपडे में लपेटकर प्लास्टिक की थैली में रख दें,फ्रिज में भी काला नहीं पडेगा।

एडियाँ साफ करनी हो तो कच्चे पपीते का दूध लगाकर छोड दें,आधे घंटे बाद साफ करें।

चावल सुगंधित बनाना हो तो,चावल धोकर उसमें मीठी नीम की पत्ती डाल दें,फिऱ उबालें,चांवल सुगंधित बनेगा।

-फ्रईड चावल में थोडा सा दूध छिडक दें चांवल अलग2 बनेगा।

नये कूकर में यदि दूध उबालें या खीर बनांयें कभी काला नहीं पडेगा ।

डर डर भटकते है अरमान की तरह,
हर कोई मिलता है अनजान की तरह।
इस दुनिया से खुशी की आस क्या रखनी,
यहाँ तो ग़म भी देते है एहसान की तरह।

तुम्हे जब कभी मिले फुरसतें मेरे दिल से नाम उतार दो,
मैं बहोत दिनों से उदास हूँ मुझे एक शाम उधार दो।
मुझे अपने रंग में रंग दो मेरे सारे जंग उतार दो,
मुझे अपने रंग की धूप दो गमो को मेरे जार दो।

मैं बिखर गया हूँ समेट लो, मैं बिगड़ गया हूँ संवार दो,
तुम को कैसी लगी शाम मेरी ख्वाहिशों के दीदार की।
जो भली लगे तो इनको चाहत से अपने निखार दो,
वहां घर में कोन है मुन्तजिर के फिकर हो देर सवेर की।
बड़ी मुह्तासिर सी ये रात है इसे चांदनी में गुजार दो।
मैं बहोत दिनों से उदास हूँ मुझे एक शाम उधार दो।


शब्-ऐ-गम के अश्कों के सिवा तेरे इश्क ने मुझे क्या दिया
जिस दिल में तेरी ही चाह थी उसी दिलको तुमने जला दिया
तू जो दिलका चैन-ओ-करार था तू जो दिल्लगी का खुमार था
तुझे दिलसे हमने मिटा दिया, तुझे दिलसे हमने भुला दिया
वो जो साथ मेरे था रात दिन, वो तो सिर्फ़ तेरा ख्याल था
उसे जेहन-ओ-दिल से निकाल कर गए मजियों में छिपा दिया
हर उम्मीद वक्त की गर्द में यूँ दबी के फिर न उभर सकी
जिसे गर्द-ऐ-वक्त न छू सकी उसे आंसुओं ने मिटा दिया
न तो दिल को इश्क का है जूनून न नज़र किसी की तलाश में
तेरी याद दिल से समेट कर मैंने अश्क अश्क बहा दिया।
सभी पाठकों को 'मेरी पत्रिका' की तरफ से
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये.

दीपावली यानी दीयों का त्योहार।
दीपावली के दिन जिस देवी लक्ष्मी
और गणेश भगवान की पूजा होती है,
उन्हीं देवी-देवताओं की मूर्तियों को
सजाने में मगन है यह सारा संसार.

दीपावली पूजा और लक्ष्मी पूजा के अवसर पर प्रमुख रूप से भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी के तीन रूपों की पूजा की जाती है। भगवान गणेश की पूजा किसी भी शुभ कार्य को आरंभ करने से पूर्व की जाती है क्योंकि ये विघ्नहर्ता यानी बाधाओं को हरने वाले हैं। देवी लक्ष्मी की पूजा उनके तीन रूपों –
महालक्ष्मी (धन और संपत्ति की देवी),
महासरस्वती (शिक्षा और विद्या की देवी), और
महाकाली, कुबेर (धन खजाने के देवता)
…में की की जाती है।

कैसे करें दीपावली पूजा ?

1. लक्ष्मी पूजा:

देवी लक्ष्मी भृगु की बेटी थी और जब सभी देवताओं को निर्वासित किया गया था तब इन्होंने दूध के समुद्र में जाकर आश्रय लिया था। समुद्र मंथन के समय लक्ष्मी जी का दुबारा जन्म हुआ। लक्ष्मी जी की सुंदरता को देखकर सभी देवता उन पर मोहित हो गये । भगवान शिव ने लक्ष्मी को अपनी पत्नी होने का दावा कर दिया लेकिन उन्होंने बाद में लक्ष्मी को भगवान विष्णु के हाथों में सौंप दिया जैसा कि श्री लक्ष्मीजी चाहती थी।

लक्ष्मी उजाला, सुंदरता, सौभाग्य और धन सम्पत्ति की दैवी हैं। लक्ष्मी जी की पूजा सफलता प्राप्त करने के लिए की जाती है। वे उन भक्तों के पास हमेशा नहीं रहती हैं जो आलसी है और धन संपत्ति के लिए जो उनकी पूजा करता है।

लक्ष्मी पूजा करने की विधि:

सबसे पहले जिस स्थान पर पूजा करना है वहां साफ सफाई कर नया कपड़ा बिछाएं।
इसके मध्य में थोड़ा सा अनाज रखें और इसके ऊपर कलश, लोटा स्थापित करें। कलश में तीन चौथाई पानी भरें और इसमें एक सुपारी, एक फूल, एक सिक्का और कुछ चावल के दाने डालें। कलश में डालने के लिए के पांच तरह के पत्ते या आम के पत्ते का इंतजाम करें।
कलश के पास थोड़ा सा खाद्य पदार्थ रखें और इसको चावल से ढंक दें। अब हल्दी का इस्तेमाल करते हुए चावल के ऊपर कमल का चित्र बनाएं और इसके बाद देवी लक्ष्मी की प्रतिमा को एक सिक्के के साथ इसके ऊपर स्थापित करें।
कलश के सामने दायीं ओर(दक्षिण-पश्चिम दिशा) भगवान गणेश की प्रतिमा को स्थापित करें। इसके साथ ही इस स्थान पर कलम और किताब को रखें और अपने कार्य के अनुसार जो कुछ भी रखना चाहते हों यहां रख सकते हैं।
पूजा आरंभ करने से पूर्व एक दीपक और अगरबत्ती जलाएं और उसके साथ ही कलश स्थल पर हल्दी, कुमकुम और कुछ फूलों को रख पूजा प्रारंभ करें।
पूजा की बर्तनों को शुद्ध करने के लिए इस पानी का इन बर्तनों पर छिड़काव करें।
पंचामृत बनाने के लिए पांच आवश्यक सामग्री का इस्तेमाल करें- जो इस प्रकार हैं- दूध, दही, घी, चीनी और शहद।
गणेश जी पूजा के साथ शुरूआत करें क्योंकि गणेश जी की पूजा के साथ ही सभी पूजा का आरंभ होता है। गणेश मंत्र और गणेश आरती के साथ पूजा की शुरूआत करें। गणेश जी की प्रतिमा पर फल, फूल और मिठाइयों को चढ़ाएं।
अब देवी लक्ष्मी की पूजा लक्ष्मी मंत्र के साथ करें। उनकी प्रतिमा पर फूलों को चढ़ाएं।
एक थाली में लक्ष्मी की प्रतिमा को रखें और इसे पंचामृत पानी से साफ करें और इस पानी से सोने से बने गहने को भी धोएं। प्रतिमा को अच्छी तरह पोछ लेने के बाद इसे कलश के समीप रख दें। इसके अलावा फूल को पानी और पंचामृत में डूबो कर प्रतिमा पर छिड़काव करे ।
देवी की प्रतिमा पर चंदन का मिश्रण, हल्दी, कुमकुम को चढ़ाएं। इसके साथ ही माला को देवी की प्रतिमा को पहनाएं। उसके बाद कुछ फूल और मिठाइयां, नारियल और फल को भी चढ़ाएं।
इसके बाद स्याही और किताब की पूजा करें। किताब के पहले पन्ने को खोलें और उस पर शुभ लाभ लिखें और इस पर घड़ी की सुई की समान दिशा में स्वास्तिक चिन्ह बनाएं।
इसके बाद अपने सारे सोने और चांदी के सिक्के को पानी, पंचामृत से धोएं।
अब देवताओं की प्रतिमा पर चावल और बताशा को चढ़ाएं।
और आखिर में देवी लक्ष्मी की आरती और वैश्विक आरती ओम जय जगदीश हरे पूजा आरंभ करें।
आरती समाप्त होने के बाद यहां मौजूद सारे भक्तों में प्रसाद का वितरण करें।
पूजा समाप्त होने के बाद अपने घर के चारों ओर दीपक (मिट्टी के दीये में सरसों का तेल भरकर) और दीपक न होने पर मोमबत्ती जलाएं। ध्यान रहे कि घर का एक भी कोना अंधेरे में नहीं रहे।
लक्ष्मी जी की आरती कर आप पूजा प्रारंभ करें। लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि वे अधिक शोर शराबा से घृणा करती हैं। इसलिए आरती करते समय ज्यादा शोरशराबा ना करें और छोटी घंटी का इस्तेमाल करें। पूजन के समय शांत और उत्कृष्ट वातारण का प्रबल होना उचित होगा। पूजा करते वक्त या इसके तुरंत बाद पटाखे ना छोड़ें।

मां लक्ष्मी जी की आरती :

जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निसदिन सेवत, हर विष्णु विधाता।। जय.।।
ब्रह्माणी, रूद्राणी, कमला, तूही है जग माता।
सूर्य चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता।। जय.।।
दुर्गारूप निरंतारा, सुख-संपत्ति दाता।
जो को तुमको ध्याता, ऋद्धि-सिद्धि पाता।। जय.।।
तूही पाताल निवासिनी, तूही शुभ दाता।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, जगनिधि की त्राता।। जय.।।
जिस घर में तुम रहती, सब सद्गुण आता।
कर साके कोई कर ले, मन नहीं घबराता।। जय.।।
तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र ना कोई पाता।
खान-पान का वैभव, सब तुमसे ही आता।। जय.।।
शुभ-गुण मंदिर सुंदर, क्षीरोदधि जाता।
रत्न चतुर्दश तुम ही, कोई नहीं पाता।। जय.।।
आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता।
उर आनंद उमंग आती, पाप उतर जाता।। जय.।।

२. गणेश पूजा:

भगवान गणेश 33 करोड़ देवी देवताओं में सबसे पहले पूजे जाने वाले देवता हैं। इनकी उपासना करने से सभी विघ्नों का नाश होता है और सुख-समृद्धि, धन-बल और बुद्धि-ज्ञान की प्राप्ति होती है। इसलिए दीपावली पूजन में भी सबसे पहले गणेश जी की पूजा की जाती है। हिन्दू देव समूहों में इन दोनों देवताओं में कोई संबंध नहीं है, गणेश शिव और पार्वती के पुत्र हैं। तदापि लक्ष्मी और गणेश जी को साथ-साथ रखा जाता है।
गणेश पूजा के दौरान देवी लक्ष्मी की प्रतिमा को बायीं ओर स्थापित करें और भगवान गणेश की प्रतिमा को दायीं ओर रखें। लक्ष्मी धन और समृद्धि के साथ-साथ जीवित सुंदरता, दया और मनोहरता की दैवी हैं। उनका चित्रण प्राय: कमल पर सोने के सिक्कों के साथ विराजमान होता है। भगवान गणेश सब प्रकार की सिद्धी प्रदान करने वाले, विवेक देने वाले और सब विघ्नों का नाश करने वाले देवता हैं।

ऐसे करें गणेश पूजा:

दीपावली के अवसर पर श्री लक्ष्मी-गणेश की पूजा होती है। इन दोनों देवताओं की प्रतिमा को एक साफ सुथरे स्थान पर रखा जाता है। इसके साथ इन प्रतिमाओं पर चंदन मिश्रण, केसरिया मिश्रण, इत्र, हल्दी, कुमकुम, अबीर, गुलाल, फूलों की माला खासकर गेंदे के फूलों की माला और बेल पत्र को चढ़ाया जाता है। सुगंधित अगरबत्ती और धूप जलाये जाते है और मिठाइयां, नारियल, फल और तांबूल भी इन पर चढ़ाए जाते हैं। और पूजा के अंत में भक्त भगवान गणेश की आरती गाते हैं।

श्री गणेश जी की आरती:

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
एक दंत दयावन्त, चार भुजाधारी।
माथे सिन्दूर सोहे, मूसे की सवारी।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
पान चढ़े, फूल चढ़े, और चढ़े मेवा।
लडुअन का भोग लगे, संत करें सेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
अंधे को आंख देत, कोढ़िन को काया।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।
दीनन की लाज राखो शम्भू सुत वारी।
कामन को पूरा करो जग बलिहारी।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।

श्री जगदीश्वर जी की आरती:

ओम जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट, क्षण में दूर करे।। ओम जय जगदीश हरे।।
जो ध्यावे फल पावे, दुख बिन से मन का।
सुख-संपत्ति घर आवे, कष्ट मिटे तन का।। ओम जय जगदीश हरे।।
माता-पिता तुम मेरे, शरण पदुम मैं किसकी।
तुम बिन और न दूजा, आस करूं जिसकी।। ओम जय जगदीश हरे।।
तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी।
पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी।। ओम जय जगदीश हरे।।
तुम करुणा के सागर, तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख खल-कामी, कृपा करो भर्ता।। ओम जय जगदीश हरे।।
तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति।। ओम जय जगदीश हरे।।
दीनबंधु दुखहर्ता, तुम रक्षक मेरे।।
अपना हस्त उठाओ, द्वार खड़ा मैं तेरे।। ओम जय जगदीश हरे।।
विषय विकार मिटाओ पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा।। ओम जय जगदीश हरे।।
तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा।
तेरा तुझको अर्पण, क्या लगे मेरा।। ओम जय जगदीश हरे।।
ओम जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट, क्षण में दूर करे।। ओम जय जगदीश हरे।।


दीपावली का यह प्यारा त्यौहार,
जीवन में लाये खुशियाँ हज़ार,
लक्ष्मी विराजे आपके द्वार,
शुभ कामना हमारी करो स्वीकार...