मेरे दर्द-ऐ-दिल की थी वो दास्ताँ
जिसे हँसी में तुमने उड़ा दिया
जिससे बच रहा था मै संभल संभल कर,
वो दर्द आज फ़िर तुमने जगा दिया.
मुझे प्यार का शौक न रहा
मेरे दोस्त भी है सब बेवफा
जो करीब आए तो ज़िक्र हुआ
जो दूर हुए तो भुला दिया.
वो जो मिलते थे कभी रात में
गिले होते थे उनकी हर बात में
न वो दिल रहा न वो दोस्त रहा
मेरे ख़्वाबों को भी सुला दिया.
वो तो कहते थे हर बात में
की हम बसते हैं उनकी याद में
मैं न जान सकूँगा ये कभी
क्यूँ मुझको दिल से भुला दिया.

3 Comments:

Palak said...

nice one

manvinder bhimber said...

मेरे ख़्वाबों को भी सुला दिया.
वो तो कहते थे हर बात में
की हम बसते हैं उनकी याद में
मैं न जान सकूँगा ये कभी
क्यूँ मुझको दिल से भुला दिया.
bahut sunder

Adams Kevin said...

म एडम्स KEVIN, Aiico बीमा plc को एक प्रतिनिधि, हामी भरोसा र एक ऋण बाहिर दिन मा व्यक्तिगत मतभेद आदर। हामी ऋण चासो दर को 2% प्रदान गर्नेछ। तपाईं यस व्यवसाय मा चासो हो भने अब आफ्नो ऋण कागजातहरू ठीक जारी हस्तांतरण ई-मेल (adams.credi@gmail.com) गरेर हामीलाई सम्पर्क। Plc.you पनि इमेल गरेर हामीलाई सम्पर्क गर्न सक्नुहुन्छ तपाईं aiico बीमा गर्न धेरै स्वागत छ भने व्यापार वा स्कूल स्थापित गर्न एक ऋण आवश्यकता हो (aiicco_insuranceplc@yahoo.com) हामी सन्तुलन स्थानान्तरण अनुरोध गर्न सक्छौं पहिलो हप्ता।

व्यक्तिगत व्यवसायका लागि ऋण चाहिन्छ? तपाईं आफ्नो इमेल संपर्क भने उपरोक्त तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण प्रक्रिया गर्न
ठीक।