दिल कि लगी को वो और भड़का रहे हैं आज,
खुद ही खुद बहार बने जा रहे हैं आज।
जैसे कि हो रहा हैं अफताब-इ-नाज़,
कुछ ऐसी शान से वो चले आ रहे हैं आज।
ठुकरा कि इल्तिजा को पा-इ-गुरुर से,
अरमानों का वो खून किये जा रहे हैं आज।
वो प्यार कि फिजायें वो रंगीन सोहबतें,
मंज़र वो सारे शौक़ कि याद आ रहे हैं आज।
यारों गिला करें भी तो किस बात का करें,
अपने किये की आप सजा पा रहे हैं आज।

3 Comments:

MANVINDER BHIMBER said...

दिल कि लगी को वो और भड़का रहे हैं आज,
खुद ही खुद बहार बने जा रहे हैं आज
hamesha ki tarha se khoobsurat

BrijmohanShrivastava said...

प्रिय श्रीवास्तव जी =सूरज की तरह शान ,इल्तजा को ठुकराकर अरमानो का खून करना ,पुरानी फिजायें व सोहबतें याद आना और इसके साथ अपने किए की सज़ा पाना /बहुत अच्छा लगा / वैसे तो ""जिंदगी से बड़ी सजा ही नहीं , और क्या जुर्म है पता ही नहीं ""

Adams Kevin said...

म एडम्स KEVIN, Aiico बीमा plc को एक प्रतिनिधि, हामी भरोसा र एक ऋण बाहिर दिन मा व्यक्तिगत मतभेद आदर। हामी ऋण चासो दर को 2% प्रदान गर्नेछ। तपाईं यस व्यवसाय मा चासो हो भने अब आफ्नो ऋण कागजातहरू ठीक जारी हस्तांतरण ई-मेल (adams.credi@gmail.com) गरेर हामीलाई सम्पर्क। Plc.you पनि इमेल गरेर हामीलाई सम्पर्क गर्न सक्नुहुन्छ तपाईं aiico बीमा गर्न धेरै स्वागत छ भने व्यापार वा स्कूल स्थापित गर्न एक ऋण आवश्यकता हो (aiicco_insuranceplc@yahoo.com) हामी सन्तुलन स्थानान्तरण अनुरोध गर्न सक्छौं पहिलो हप्ता।

व्यक्तिगत व्यवसायका लागि ऋण चाहिन्छ? तपाईं आफ्नो इमेल संपर्क भने उपरोक्त तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण प्रक्रिया गर्न
ठीक।