कभी रोएगी मेरी याद में तनहा
उज्जड चुका होगा आशियाँ हो जाउंगी में फना
मेरे हर बात को तस्वीर बनके रखना
मेरा इंतज़ार अपनी आंखों में बनके रखना
तुझसे मांगी थी खुशियाँ मैंने
तुने गुम्म भी देने से इनकार कर दिया
जाते हुए याद करना मुद मुद कर
मेरे आँसू तेरी आवाज़ को तरस रहे थे
हमें मेफ्फिलों में भुला देना लेकिन
बहुत याद आउंगी में तनहाइयों में
कभी रोएगी मेरी याद मिएँ तनहा देखना.
तेरी जुदाई भी हमें प्यार करती है, तेरी याद बहोत
बेकरार करती है, वो दिन जो तेरे साथ गुज़रे थे,
तलाश उनको नज़र बार बार करती है।


With spl.Thanks to Vibha.

2 Comments:

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर रचना है बधाई।

Adams Kevin said...

म एडम्स KEVIN, Aiico बीमा plc को एक प्रतिनिधि, हामी भरोसा र एक ऋण बाहिर दिन मा व्यक्तिगत मतभेद आदर। हामी ऋण चासो दर को 2% प्रदान गर्नेछ। तपाईं यस व्यवसाय मा चासो हो भने अब आफ्नो ऋण कागजातहरू ठीक जारी हस्तांतरण ई-मेल (adams.credi@gmail.com) गरेर हामीलाई सम्पर्क। Plc.you पनि इमेल गरेर हामीलाई सम्पर्क गर्न सक्नुहुन्छ तपाईं aiico बीमा गर्न धेरै स्वागत छ भने व्यापार वा स्कूल स्थापित गर्न एक ऋण आवश्यकता हो (aiicco_insuranceplc@yahoo.com) हामी सन्तुलन स्थानान्तरण अनुरोध गर्न सक्छौं पहिलो हप्ता।

व्यक्तिगत व्यवसायका लागि ऋण चाहिन्छ? तपाईं आफ्नो इमेल संपर्क भने उपरोक्त तुरुन्तै आफ्नो ऋण स्थानान्तरण प्रक्रिया गर्न
ठीक।