उपनिषदों के अनुसार जो ब्रह्माण्ड में है वह पिंड (देह) में है। विज्ञानं भी यही कहता है। की जो नियम परमाणु में काम कर रहे हैं, ठीक वहीनियम सौर मंडल में काम कर रहे हैं। जगत का सम्पूर्ण प्रवाह परब्रह्म से अनुप्राणित है, उससे आवासित है। एक परम ऊर्जा से सब कुछ ढका हुआ है। यह ऊर्जा या प्राण अभौतिक है, जेसे हमारी आत्मा , हमारे श्वास । श्वास ऊर्जा के बिना देह मुर्दा है......... मांस और हड्डियों का ढेर मात्र । यह ऊर्जा ही हमारे शरीर , पर्यावरण और हमारी भावनाओं में समन्वय और संतुलन बनाए रखती है।एक तरह से कहा जा सकता है के यह ऊर्जा या जीवनशक्ति हमारे व्यक्तित्व , प्रतिभा और सम्पूर्ण जीवन अवधि की रूपरेखा है। और यह ऊर्जा या जीवन शक्ति रंगों से प्रभावित होती है। इसीलिए रंगों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। रंगों से हमारा सम्बन्ध ब्रह्माण्ड में व्याप्त ऊर्जा के माध्यम से जुड़ता है। सौर मंडल के सभी रंग सूर्य में होते हैं।

हमारी जीवनशक्ति को समरस , संतुलित और अनुकूल रखने में रंगों का बड़ा महत्व और योगदान होता है। शारीरिक और मानसिक स्वस्थ्य को बनाए रखने में रंगों की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। रंग हमारे जीवन में मंगल और शुभ लाने में सहायक होते हैं। अस्तित्व में मौजूद प्रतेएक वास्तु (अणु परमाणु ) कहीं न कहीं हमारे व्यक्तित्व को प्रभावित करता है। और प्रत्येक वस्तु(अणु परमाणु) अपने में कोई न कोई रंग समेटे हुए है। ज्ञातव्य है के हमारे देह भावनाओं और पर्यावरण जिसमे हम रहते हैं.... इनमे आपसे में लयऔर संतुलन हमारे लिए अभीष्ट है। ज़रा सा भी कहीं पर अन्तर या अवरोध आ जाने से हमारा समूचा व्यक्तित्व प्रभावित होता है।

व्यक्ति के आसपास के वातावरण में कोई नया रंग सकारात्मक या नकारात्मक्क प्रभाव डालने में सक्षम होता है। रंग हमारी भावनाओं के गुणधर्म को उभारने या दबाने में प्रभावशाली योगदान करते हैं। और हमारे व्यहार को भी निर्मित सरने में सहायक होते हैं।

अपने रोज़मर्रा के जीवन में हम रंगों का असर भली प्रकार देख सकते हैंकिसी से डाह करते हुए हम नीले हरे हो जाते हैं शर्म से लाल हो जाते हैं। भय से पीले पड़ जातेटी हैं। कुछ रंग हमें प्रफुल्लित बनाते हैं तो कुछ विषाद में दुबूते हैं। इस प्रकार रंगों का प्रभाव अपने जीवन पर हम ख़ुद अनुभव कर सकते हैं।
रंग प्रकाश और ऊर्जा की अभिव्यक्ति हैं। यदि कोई रंग हमारी ऊर्जा से लयात्मक हो जाता है तो निश्चित ही हमारा जीवन समृद्ध और सफल होता है। किंतु यह भी सत्य हा की जो रंग हमारे मूड या मिजाज से मेल नही खाता वह हमें क्षुब्ध और चिडचिडा बना देता है। हमारी आँखों के संपर्क में आने वाला प्रतेयक तंग हमारे स्वभाव और शारीरिक गतिविधिया , भाषा और विचारों को प्रभावित करता है।
व्यक्ति के तीन प्रमुख केन्द्रों में लयात्मकता और संतुलन रंगों के द्वारा ही होता है। ये प्रमुख केन्द्र हैं: मानसिक केन्द्र, इच्छा केन्द्र और भाव केन्द्र। मानसिक केन्द्र से सम्बंधित चक्र सहस्त्रार और आज्ञा चक्र हैं। जो क्रमश जामुनी और गहरे नीले रंग की ऊर्जा समेटहैं । इच्छा केन्द्र से सम्बंधित ग्रीवा का निचला भाग, कंधो के नीचे की पसलियों से सम्बंधित है, जिनका रंग हल्का नीला है । भाव केन्द्र से सम्बन्धीविशुधिचक्र , अनाहत चक्र मणिपुर और मूलाधार चक्र है जो क्रमश हल्का नीला, हरा, पीला और लाल रंग अपने में समेटे हैं।
क्रोध भय चिंता और तनाव से मुक्ति के लिए विशुधि चक्र पर हल्का नीला और मणिपुर चक्र पर पीले रंग का ध्यान तथा काम लोभ जेसे नकारात्मक प्रवाहों को रोकने के लिए मूलाधार चक्र पर लाल रंग का ध्यान करने से नकारात्मक अवरोध दूर फ्जाते है । निराशा, हीनता और असंतोष आदि नकारात्मक भावों से पार पाने के लिए हृदय चक्र पर हरे रंग का ध्यान करने से सकारत्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है।
प्रेम और करूणा भाव जागृत कारने के लिए विशुद्धि चक्र पर समुद्री नीले रंग ध्यान अति हितकारी होता है। ज्ञातव्य है की ऊर्जा विचार का अनुगमन करती है। इस प्रकार नकारात्मक भावो से छुटकारा पाने के लिए सम्बन्धी चक्रो पर विशेष ध्यान करने से नकारात्मक अवरोध हट जाते हैं।
वेसे हम रंगों के बारे में अनुवीक्षण करे तो पायेंगे की इनके गुणधर्म संस्कृति से जुड़े पीड़ीडर पीड़ी चले आते हैं। इसलिए मनोवैज्ञानिक स्तरपर रंगों के विषय में कुछ ठोस रूप से नही लिखा जा सकता। और जो लिखा जा सकता है वह मात्रप्रतीकात्मक ही होगा। किन्तो यह सच है की हमारे अनुभव किए बिना रंग हमारी बोध क्षमता को प्रभिव्त करते हैं। और उनके प्रभाव से हमारी भावनाए भी संचालित और प्रभावित होती हैं।
पश्चिमी देशो में काला रंग गंभीरता के साथ उदासी का भी प्रतीक है। वहाँ के लोगो को सुझाव दिया जाता है की साज सज्जा के समय काले रंग के इस्तेमाल से बचें। किंतु दूसरी ओरसफ़ेद रंग शुद्धता शान्ति और आशावाद का प्रतीक मानाजाता है। पश्चिमी देशों में दुल्हन को सफ़ेद पोषक पहनाई जाती है। वहाँ सपने में भी सफ़ेद कपडों में किसी के दाहसंस्कार में जाने का सोचा जा सकता है। इसके विपरीत पूर्व में सफ़ेद रंग को शोक की अभिव्यक्ति के तौर पर माना जाता है। और काले रंग को अशुभ माना जाता है।
रंग दूसरों की राय बदलने में सक्षम होते हैं। ये आँखों को उतेजित करते हैं तो शांत करने के भी अपार क्षमता इनमे है। रंग हमारे भग्य, व्यक्तित्व और जीवन ऊर्जाको प्रभावित करते हैं। इसलिए अब जब भी kakbhi आप किसी रंग विशेष से खुशी आदि महसूस करे उत्साह लगाव सक्रियता महसूस करे तो उसे नोट करे। इसी तरह विपरीत भी नोट करें। और अनुकूल रंगों का प्रयोग और प्रतिकूल रंगों से बचने से हम स्वस्थ्य जीवन जी सकेंगे.

4 Comments:

Nirmla Kapila said...

ग्यान्वर्द्धक आलेख के लिये धन्यवाद्

Ravi Srivastava said...

...बहुत ही प्रभावशाली लेखन है... वाह…!!! वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है।

‘नज़र’ said...

बहुत अच्छी बातें बतायीं आपने
आभार
----
1. विज्ञान । HASH OUT SCIENCE
2. चाँद, बादल और शाम
3. तकनीक दृष्टा

Udan Tashtari said...

आभार. अच्छा लगा पढ़कर. फॉण्ट जरा करें तो पढ़ने में सहूलियत हो.