प्रिया पानी तुम कितने महान हो
सृष्टि के प्राणों का अवधान हो
अम्बर की तुम अजीम शान हो
वनोप्वन की मधुर मुस्कान हो
सारे संसार की तुम जान हो
सागर नदियों की पहचान हो
जात पात उंच नीच से दूर
सबका रखते बहुत मान हो
कभी नही जताते नही एहसान हो
फ़िर भी हम तुम्हारी क़द्र नही करते
पानी हमारी खता माफ़ कर देना
हम तुम्हे कभी बना नही सकते
फ़िर भी कितना व्यर्थ हैं बहाते
और प्रदूषित भी तो कितना हैं करते
फ़िर भी पानी तुम नाराज नही होते
हर पल सबका ध्यान हो रखते
पानी हमारी खता माफ़ कर देना
हम कभी तुम्हारी क़द्र नही करते
पानी हमारी खता माफ़ कर देना
हम कभी तुम्हारी क़द्र नही करते

1 Comments:

राकेश 'सोऽहं' said...

भीषण पर्यावरण प्रदूषण
दीख रहा प्रत्यक्ष,
चेतें, जागें, लें संकल्प,
घर-घर लगायें वृक्ष .
[] राकेश 'सोऽहं'