जिंदगी कभी मुश्किल तो कभी आसन होती है,
आँखों में नमी होंठो पे मुस्कान होती है,
न भूलना अपनी मुस्कराहट को,
इसी से हर मुश्किल आसान होती है।

-----------------------------

अपने होटो पर मेरे गीत सजाकर देखो,

मेरे नगमे है तुम्हारे लिए गाकर देखो,

तुमको हर बात मेरे दिल की सुनाई देगी,

मेरे तस्वीर को सीने से लगाकर देखो।
-----------------------------

अश्क आंखों से निकलना बेवज़ह होता नहीं,
आह निकली है तो दिल में दर्द भी होगा कहीं।
गर मेरी खामोशियों को तुम समझ पाते नहीं,
तो मेरे अल्फाज़ का भी कुछ असर होगा नहीं।

4 Comments:

अर्कजेश said...

"गर मेरी खामोशियों को तुम समझ पाते नहीं,
तो मेरे अल्फाज़ का भी कुछ असर होगा नहीं।"

बहुत बढिया, बहुत बढिया ......

श्यामल सुमन said...

सुन्दर प्रस्तुति।

कई लोगों को देखा है, जो छुपकर के गजल गाते।
बहुत हैं लोग दुनियाँ में, जो गिरकर के संभल जाते।
इसी सावन में अपना घर जला है क्या कहूँ यारो,
नहीं रोता हूँ फिर भी आँख से, आँसू निकल आते।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

bnihal.com said...

बहुत बढिया, बहुत बढिया .....

vandana said...

bahut hi badhiya......shandar