चाहे आप इतिहास में कितने पन्ने पीछे क्यों न चले जाएँ, वेश्या-वृत्ति कभी भी भारत में व्यवसाय या व्यापार के रूप में नहीं रहा है. भारतीय संस्कृति में इसे सदैव निम्न दृष्टि से देखा गया है. अब अगर इसे कानूनी मान्यता दे दी गयी तो भारतीय समाज से बड़ी तेजी से नैतिकता का ह्रास होने लगेगा. व्याभिचारी प्रवित्ति के लोगो को तो जैसे खुली मनमर्जी करने की आजादी मिल जाएगी. जो काम अब तक छुप-छुप कर हो रहा था वह अब खुले आम हो जाएगा. समाज में औरतों, लड़कियों की स्थिति और निम्नतर हो जाएगी.

मान्यता देने का सीधा मतलब यह निकलेगा कि हम इस सामाजिक कलंक को मिटाने में असमर्थ है. कोई भी व्यक्ति अपनी मां, बहन, बेटी को एक वेश्या के रूप में नहीं देखना चाहता तो फिर दूसरी औरत को वेश्या के रूप में क्यों देखना चाहता है. सरकार महिलाओं की सुरक्षा तो ठीक से कर नहीं पाती, उल्टे उसे खुलकर सामान्य उपभोग की वस्तु की तरह इस्तेमाल करने की क़ानून बनाने की बात होने लगी है. वेश्यावृत्ति को क़ानूनी मान्यता देने से कई सामाजिक संकट उत्पन्न हो जाएँगे. कई लोग इस धंधे को अपनाने के लिए प्रेरित होंगे. एड्स के मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होगी.

मुझे तो इस बात पर आश्चर्य है की भारत का सर्वोच्च न्यायालय इसे कानूनी रूप देने के लिए उद्द्यत दिखाई दे रहा है। मेरी राय में तो इसपर पूर्ण प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए. तभी समाज में स्वच्छ एवं नैतिकता पूर्ण वातावरण कायम रह सकेगा. जहां तक इस धंधे पर प्रतिबन्ध लगने से इससे सम्बंधित लोगो के बेरोजगार हो जाने की बात है तो सरकार या सर्वोच्च न्यायालय इन लोगो को कोई दूसरा अच्छा काम उपलब्ध क्यों नहीं करवाती?


मुझे नहीं लगता की कोई भी औरत अपनी स्वेच्छा से इस धंधे में कदम रखती है। उसे कुछ लोग वेश्यावृत्ति करने को मजबूर करते हैं. ये बात और है की जो औरत एक बार इस दुनिया में कदम रख देती है, उसे इससे बाहर निकलने के सभी रास्ते बंद नज़र आते हैं, जिसके लिए हमारा समाज भी कम जिम्मेदार नहीं है. शायद यही वजह है की बाद में ये सेक्स-वर्कर इसी धंधे को करते रहना चाहते हैं, ताकि उनका जीवन-यापन होता रह सके।

नोट: अगर आप इस लेख को पढ़ रहे हैं तो अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर देवें.

4 Comments:

महफूज़ अली said...

लेख से पूरी तरह सहमत हूँ....

Nirbhay Jain said...

ठीक कहा आपने
मजबूरी में कुछ लोग इस धंधे में शामिल है अगर इन लोगो को कोई और काम मिल जाये तो जरूर वेश्या वृत्ति काम हो जाएगी..

www.SAMWAAD.com said...

सही कहा आपने।
--------------
मानवता के नाम सलीम खान का पत्र।
इतनी आसान पहेली है, इसे तो आप बूझ ही लेंगे।

राकेश 'सोहम' said...

धंधे पर प्रतिबन्ध लगने से इससे सम्बंधित लोग बेरोजगार...
क्या देह से समझौता मजबूरी में ही ???
यह अब भी एक पहेली है तथापि देह व्यापार रोजगार का साधन होना शर्मनाक है और इसको मान्यता लज्जास्पद .