कह के देख लिया, चुप रह के भी देख लिया,
क्या करे जब उन्होंने ही खामोश कर दिया.
उनसे बात करने के लिए हम बहुत तड़पते है,
पर क्या करे जब हमारे बात करने से वो भड़कते है.

---------------

हकीकत समझो या अफसाना
बेगाना कहो या दीवाना
सुनो मेरे दिल का फ़साना
तेरी दोस्ती है मेरे जीने का बहाना

------------------

हर कोई प्यार के लिए रोता है,
हर कोई प्यार के लिए ही तड़पता है,
मेरे प्यार को गलत मत समझना
प्यार तो दोस्ती में भी होता है .

2 Comments:

परमजीत बाली said...

बढ़िया मुक्तक हैं।बधाई।

दिगम्बर नासवा said...

हकीकत समझो या अफसाना
बेगाना कहो या दीवाना
सुनो मेरे दिल का फ़साना
तेरी दोस्ती है मेरे जीने का बहाना

bahoot hi sundar hain saare muktak .. behatreen prestuti ...