2 Comments:

दिगम्बर नासवा said...

महफ़िल को रुला देते ..... बहुत कमाल का चित्र और शब्द रवि जी ..........

संजय भास्कर said...

हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।