फिल्मों और टी.व्ही. का हास्य अश्लील तथा पत्र-पत्रिकाओं का हास्य राजनीतिक हो गया है । इस होली में यही देखने और पढने में आया । अश्लीलता मुझे पसंद नहीं और राजनीति में मेरा भरोसा नहीं । अतः इया होली में लिखी गयीं लगभग दर्जन भर रचनाओं में से कुछेक को छोड़कर सभी पत्र-पत्रिकाओं द्वारा दरकिनार कर दीं गयीं ।
होली पूर्व एक प्रतिष्ठित अखबार के स्थानीय कार्यालय में एक व्यंग्य लेकर पहुंचा । तथाकथित सम्पादक जी ने मेरी रचना के पन्नों को फटाफट पलटा और आखिरी पन्ने को यों पकड़ा की शेष पन्ने हवा मैं झूल रहे थे , मानों वे कोई सड़े हुए मरे चूहे की पूँछ पकड़कर फेंकने जा रहे हों; बोले, 'लोकल नेताओं पर कुछ लिखो ।' मैनें कहा, 'में एक सरकारी मुलाजिम हूँ इसलिए ऐसा नहीं कर सकता ।' वे बोले, ' अपनी पत्नी के नाम से लिख दो ।' मैंने असमर्थता व्यक्त की और माफ़ी मांगकर बेदखल हो लिया । तिस पर मजाक ये कि उनके होली अंक में जो व्यंग्य छापा उसमें व्यंग्यकार ने मेरी दस साल पुरानी क्षणिका उद्घृत कर डाली ।
एक बड़ी अंतर्राष्ट्रीय कंपनी में बड़े ओहदे पर पदासीन मित्र ने मोबाइल किया - ' क्या बात है, आजकल लिखना बंद कर दिया क्या ? इस त्यौहार में दिखे नहीं !' 'बस ऐसे ही, मैं कोई स्तरीय लेखक तो हूँ नहीं कि हर पत्रिका में दिखूं !' मैंने अपना गुबार निकाला । वह साहित्य प्रेमी है और किसी बुक स्टाल पर पत्रिकाए पलट रहा था । बोला, ' यार मन ऊब गया है वही पुरानी रचनाएं पढ़कर । दर्जन भर पत्रिकाओं में वही दो तीन दर्जन लेखक । राजनेताओं की पोल खोलने के बहाने लिखी गयीं रचनाएं । आम जनता क्या मूरख है जो अनजान है इनसे ? खैर ! जो भी हो नेत्ताओं से स्वार्थ सिद्धि में लगीं पत्र-पत्रिकाएँ ऐसा करके उन्हें खुश करतीं हैं बस । बचा-खुचा पढ़ाकू पाठक दूर भागता है । '
हमारे एक मित्र लेखक जिस साप्ताहिक के लिए लिख रहे थे उसकी आलाकमान बदल गयी । पत्रिका को स्तरीय बनाने कवायद की जा रही है । आज पत्रिका के मुख्य पृष्ठ को ना देखें तो अन्दर के पृष्ठ से ये अनुमान लगाना मुश्किल कि आज की कौन सी स्तरीय पत्रिका हाथ में है ! आज कितनी ही पत्रिकाए एक-रसता के कारण दम तोड़ चुकीं हैं । ऐसी पत्रिकाओं को साहित्यकारों की आलाकमान के साथ कुबेबाज़ी ले डूबी ! पाठक नए की तलाश में पढता नहीं और नए साहित्यकार स्थानीय स्तर पर पनपता है और मर जाता है ।
आज पत्रिकाओं को स्तरीय बनाना आसान हो गया है । बहु-प्रकाशित साहित्यकारों की रचनाओं को बिना पढ़े उठायें और छाप दें । अब ऐसे सम्पादक कहाँ कि रचनाओं को पढने में सिर खाफएं और व्यक्तिगत पत्र से सूचित करें । अब तो सम्पादकीय भी इन्टरनेट से उठाकर लिखे जाते हैं ।
कहते हैं - हिंदी साहित्य मर रहा है ? क्या इसके लिए लेखक, मिडिया, सम्पादक और पत्र-पत्रिकाएं ज़िम्मेदार नहीं ?

4 Comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

आज पत्रिकाओं को स्तरीय बनाना आसान हो गया है । बहु-प्रकाशित साहित्यकारों की रचनाओं को बिना पढ़े उठायें और छाप दें । अब ऐसे सम्पादक कहाँ कि रचनाओं को पढने में सिर खाफएं और व्यक्तिगत पत्र से सूचित करें । अब तो सम्पादकीय भी इन्टरनेट से उठाकर लिखे जाते हैं ।०कहते हैं - हिंदी साहित्य मर रहा है ? क्या इसके लिए लेखक, मिडिया, सम्पादक और पत्र-पत्रिकाएं ज़िम्मेदार नहीं ?

आज की पत्रिकाओं के स्तर पर सटीक लेख ।

Suman said...

nice

संजय भास्कर said...

आज की पत्रिकाओं के स्तर पर सटीक लेख ।

राकेश 'सोहम' said...

कमाल द कान्त !!! वा..s..ss..ह !!!!